Posts

Showing posts from July 1, 2012

घोटालों में फंसे जिला संयोजक एलआर मीणा सहित तीन निलंबित

Image
शिवपुरी. अपनी ढपली अपना राग की तर्ज पर कार्य करने वाले शिवपुरी के तत्कालीन आदिम जाति कल्याण विभाग के जिला संयोजक जो अब गुना में जिला संयोजक है एल.आर.मीणा को अपने अनैतिक कार्यों के चलते मामलों की जांचोपरांत संभागायुक्त एस.बी.सिंह ने तत्काल निलंबित कर दिया। मीणा के साथ-साथ शिवपुरी में पदस्थ एक उपयंत्री मोहर सिंह सिकरवार तथा लिपिक लोकेन्द्र सिंह भदौरिया को आयुक्त आदिवासी विकास द्वारा भी निलंबित किया गया है।

कलियुगी भगवान अब अपनी मांगो पर अड़ा

Image
शिवपुरी. एक वो भगवान जो इस सृष्टि को चलाने के लिए मनुष्य को धरती पर भेजते है और एक वह भगवान जिसे भगवान का अवतार माना जाता है हम बात कर रहे हे डॉक्टर अर्थात चिकित्सक की। जी हां शिवपुरी ही नहीं बल्कि प्रदेश भर में इन दिनों इस कलियुगी भगवान डॉक्टरों की हड़ताल के कारण आमजन की आशाऐं अब केवल ईश्वर पर ही टिकी है। क्योंकि कलियुग में मरीजों की सेवाओं को अपना धर्म मनाने वाले ये कलियुगी भगवान अपनी मांगों को पूरा कराने के लिए इंसानों से ही दूरी बनान लगे है। इन्हें मरीजों की फिक्र नहीं बल्कि अपने ओहदे और वेतनमान को बढ़ाने को लेकर हड़ताल पर चले गए। अब अपनी मांगों पर अड़े डॉक्टर को कलियुगी भगवान ना कहे तो क्या कहें...।

इन्द्रदेव के रूठने के कारण अन्नदाता चिंतिति

Image
शिवपुरी. बीते 18 जून की बारिश के बाद अब तक शहर तो क्या पूरे जिले भर में कहीं से कहीं तक बारिश का नामो निशान देखने अथवा सुनने को नहीं मिला है। वहीं सूर्यदेव अपने तीखे तेवरों से लोगों का जीना मुहाल किए हुए है। ऐसे में बारिश ना होने से लोगों के चेहरों पर साफतार सै परेशानी की झलक दिखाई दे रही है। भीषण चुभती गर्मी में लोग जहां पीने के पानी को तरस रहे है तो वहीं नगर के अधिकांशत: बोर भी अपना दम तोड़ चुके है।

बताओ कौन बड़ा भगवान या खाकी वर्दी

Image
शिवपुरी. एक भगवान जो इंसान को इंसानियत का पाठ पढ़ाए वही इंसान जो अपने ओहदे का लाभ लेकर किसी प्रकार के अनैतिक कार्य को करने से पीछे नहीं हटता। आज भगवान और खाकी वर्दी में बड़े-छोटे पर नई बहस शुरू हो गई। जहां मंदिर माफी की भूमि पर खाकी वर्दी वाले जबरन अपना आधिपत्य जमाना चाहते है तो वहीं भगवान की सेवा करने वाले पुजारी ने इन खाकी वर्दीधारियों का विरोध किया। भगवान के नाम पर होने वाली इस अंधेरगर्दी से तो ऐसा ही प्रतीत होता है कि यहां खाकीवर्दी भगवान की भूमि को भी नहीं बख्शने वाला।