Posts

Showing posts from February 9, 2012

अब मोटरसाइकिलें बेचेंगे सिंह ब्रदर्स

Image
नईदिल्ली। सिंह ब्रदर्स, इस नाम को कौन नहीं जानता। मध्यप्रदेश की विधानसभा से लेकर लोकसभा तक हर गलियारे इस कंपनी की चर्चा हुई है। दुनिया जानती है कि इस अपंजीकृत कंपनी के चेयरमैन केपी सिंह हैं। लोग उन्हें पिछोर विधायक या मध्यप्रदेश के पूर्वमंत्री के रूप में भी जानते हैं लेकिन ज्यादातर लोग यह भी जानते हैं कि श्री सिंह राजनेता से कहीं ज्यादा एक बहुत बड़े कारोबारी भी हैं। आज तक सिंह ब्रदर्स की लिस्ट में खदानें, सैंकड़ों ट्रक, डम्पर और न जाने कौन कौन से करोड़ों के कारोबार जुड़े थे, लेकिन अब इस सूची में एक मोटरसाईकल की डीलरशिप भी जुड़ गई है। सिंह ब्रदर्स के राजाजी बोले तो योगेन्द्र सिंह यामाहा कंपनी की डीलरशिप ले आए हैं।

जिला पंचायत अध्यक्ष ने छात्रावासों पर छापामारा

Image
शिवपुरी -जिला पंचायत शिवपुरी के अध्यक्ष जितेन्द्र जैन इन दिनों आदिमजाति कल्याण विभाग के अधिकारियों से नाराज हैं। इसी के चलते उन्होंने विभाग द्वारा संचालित तीन छात्रावासों में छापामार कार्रवाई करते हुए पड़ताल शुरू की। अब कार्रवाई का आदेश तो दे नहीं सकते थे, लेकिन मंत्री और कलेक्टर के नाम अपनी रिपोर्ट भेज दी।

कांग्रेस कमेटी को लेकर सिंधिया समर्थकों में फूट

शिवपुरी। भले ही प्रदेश भर की जिला कांग्रेस कमेटियां प्रदेश अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया के कार्यालय से जारी हो रहीं हों, लेकिन शिवपुरी की कांग्रेस कमेटी सिंधिया कार्यालय से ही जारी होगी यह सभी जानते हैं। बस इसी अवसर का लाभ उठाने के लिए सिंधिया समर्थक आपस में भिड़े हुए हैं और कमेटी की घोषणा अभी तक नहीं हो पाई है।

गांववालों ने विधायक को सुनाईं खरीखोटी

दिनारा। विकास यात्रा के दौरान करैरा विधायक रमेश खटीक के समक्ष दिनारा के ग्रामीणों द्वारा विवादास्पद ग्राम पंचायत दिनारा में फैले भ्रष्टाचार की शिकायतें जड़ी, शिकायत में प्रमुख श्री गुप्तेश्वर महादेव मंदिर स्नान घाट निर्माण में उच्चस्तरीय खुर्दरा न लगाकर घटिया किसम का पत्थर लगाने की शिकायत की।

चलती सड़क पर दो गुटों के बीच फायरिंग

Image
शिवपुरी-शहर के करबला क्षेत्र में फिल्मी शूटिंग की तरह आज दो पक्षों में खूनी संघर्ष का मामला प्रकाश में आया है। बताया जाता है कि एक पक्ष जब मोटरसाईकिल पर सवार होकर तीन लोग करैरा की ओर जा रहे थे कि तभी पीछे से दूसरे पक्ष के लोग पुरानी रंजिश के चलते करैरा की ओर जा ही रहे थे कि तभी करबला के निकट दोनों पक्षों में एक-दूसरे पर फायरिंग शुरू कर दी। चूंकि इस फायरिंग में कोई हताहत तो नहीं हुआ। लेकिन फायरिंग की घटना से पुलिस सकते में आ गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों पक्षों को गिरफ्तार कर मामला विवेचना में ले लिया है।

सरपंच ने तोड़ डाले आदिवासियों के झोंपड़े

शिवपुरी- आदिवासियों के उत्थान व विकास के लिए यूं तो प्रदेश सरकार कई योजनाऐं संचालित कर रही है लेकिन वास्तविक रूप से उन योजनाओं का लाभ इन आदिवासी परिवारों को नहीं मिल पा रहा है। जिससे आदिवासी अपना डेरा यहां-वहां जमाकर निवास करने को मजबूर है। एक ऐसा ही प्रकरण आया है करैरा तहसील अंतर्गत आने वाले ग्राम पंचायत सेमरा के ग्राम चक्क जरगंवा जो कि एबी रोड पर स्थित है जहां आबादी भूमि पर बीते 10 वर्षों से आदिवासी अपनी पाटौर व टपरिया बनाकर निवास कर रहे है। इन आदिवासियों को गत कुछ दिनों पूर्व ग्राम पंचायत सेमरी के सरपंच ने अपने साथियों के साथ मिलकर इन गरीबों के झोंपड़ों को हटाया और इनके साथ मारपीट भी की ऐसे में अब आदिवासियों ने प्रशासन से सुरक्षा की गुहार लगाकर इस आबादी भूमि पर पट्टों की मांग की है ताकि उनका स्थायी निवास यहां हो सके।

पहिया निकल गया आगे, टैंकर खड़ा रह गया

Image
शिवपुरी- नगर में यूं तो अतिक्रमण के कारण सड़कें व कई मार्ग संकुचित हो गए लेकिन इसके बाबजूद भी खुले व चौड़े मार्ग से भी लोगों का निकलना दूभर हो गया है। इसी तरह का मामला सामने आया जब नगर पालिका का एक टैंकर मॉं राज राजेश्वरी मंदिर के सामने खराब हो गया और इस दौरान टैंकर का एक पहिया अपने आप निकलकर आगे निकल गया। जिससे एक बड़ी दुर्घटना होने से बाल-बाल बच गई।

देखो यातायात विभाग का कारनामा, न्यायालय के सामने लगा जाम

Image
शिवपुरी-शहर में यातायात व्यवस्था की खुली परतें यदि देखना है तो इसके लिए शहर का कोई भी मार्ग देखा जा सकता है। लेकिन सबसे ज्यादा बदतर हालात इन दिनों न्यायालय भवन के सामने है जहां प्रतिदिन वकील, न्यायाधीश व आमजनों के लिए बना यह मार्ग भी ट्रैफिक से बढ़ता जा रहा है। इस ओर यातायात विभाग ने कोई प्रयास नहीं किए जिससे यहां मार्ग सुगम किया जा सके। आए दिन लगने वाले जाम व बढ़ते ट्रैफिक से कई बार हालात इतने बिगड़ जाते है कि विवाद बढऩे के साथ-साथ मारपीट तक हो जाती है।

रच दिया इतिहास

Image
ग्वालियर। दो माह की रिहर्सल, छह घंटे की मशक्कत, 4444 विद्यार्थियों ने बुधवार को आईटीएम यूनिवर्सिटी कैम्पस में ‘ह्यूमन स्माइली’ की सबसे बड़ी आकृति बनाकर गिनीज बुक ऑफ वल्र्ड रिकार्ड के लिए दावेदारी पेश की। अभी तक ‘ह्यूमन स्माइली’ का रिकार्ड (2961 लोगों ) कनाडा के नाम पर दर्ज था। हालांकि गिनीज बुक ऑफ वल्र्ड रिकार्ड में रिकार्ड दर्ज होने में अभी एक महीना लगेगा लेकिन शहर के विभिन्न स्कूल के शिक्षक और प्रशासनिक अधिकारी इस रिकार्ड के गवाह बने। आईटीएम यूनिवर्सिटी में इस रिकॉर्ड के लिए सुबह आठ बजे प्रक्रिया प्रारंभ हुई और दोपहर लगभग डेढ़ बजे तक चली। इस विशाल मानवकृति में पॉलीथिन की जगह ईकोफ्रेंडली फ्रेबिक का उपयोग किया गया।