Posts

Showing posts from February 5, 2012

नसबंदी को लेकर इस कदर क्यों पिल पड़ा है प्रशासन

सेन्ट्रल डेस्क शिवपुरी में इन दिनों नसबंदी सबसे बड़ा मुद्दा बन गया है। हालात यह हो गए हैं कि यदि बस चले तो कलेक्टर आपातकाल घोषित कर लोगों को घरों से निकाल-निकाल नसबंदी करा डाले। प्रचार-प्रसार, आयोजन, सभाएं और स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों को टारगेट यहां तक तो समझ आता है, लेकिन पटवारियों तक को नसबंदी के टारगेट, लोगों की वेतनवृद्धियां रोकना, दण्डित किया जाना और पूरी की पूरी ताकत झोंक देना समझ नहीं आ रहा।

अब सिविल सर्जन ने लिया नसबंदी कराने का ठेका!

शिवपुरी-प्रदेश सरकार की योजनाओं के क्रियान्वयन में जिस प्रकार की उदासीनता जिला प्रशासन दिखाता है उसे देखकर कहा जा सकता है कि जिले में हर योजना दम तोड़ती नजर आ रही है लेकिन यदि बात नसबंदी शिविरों की हो तो यह बात गलत होगी क्योंकि नसबंदी कराने के लिए अभी तक तो जिला प्रशासन के मुखिया जिला कलेक्टर जॉन किंग्सली और मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.आर.एस.दण्डौतिया ही कमर कसे हुए थे जब उनकी मेहनत रंग नहीं लाई तो अब सिविल सर्जन डॉ.गोविन्द सिंह भी मैदान में कूद आए है। अपने नए आदेश में सिविल सर्जन ने जिला चिकित्सालय के सभी चिकित्सकों व स्वास्थ्यकर्मियों को सख्त हिदायत देते हुए उन्हें कम से कम एक-एक केस लाने का ठेका लिया है!

भोलेबली बादशाह की दरगाह के लिए निकला चादरपोशी जुलूस

Image
शिवपुरी- शिवपुरी में सर्वधर्म सद्भाव की मिसाल आज सर्वधर्म सौहार्द के लिए समर्पित शिवगोपाल शिवहरे परमार्थ समिति द्वारा आयोजित चादरपोशी जुलूस में देखने को मिली। जहां समिति के लोगों ने न्यूब्लॉक स्थित मण्डी वाले बाबा की दरगाह व पीपल वाले बाबा पर उर्स समारोह का विधिवत शुभारंभ किया और उर्स समारोह के विभिन्न कार्यक्रमों को लेकर समिति की ओर से पूजन व चादरपोशी की गई।

एक सूत्र में पिरोकर कार्य कर रहा जम्प : अजय कुशवाह

Image
शिवपुरी- पत्रकारों के अंतर्राष्ट्रीय संगठन के रूप में जम्प(जर्नलिस्ट यूनियन ऑफ म.प्र.) कार्यरत है जो 118 देशों के  देशों के पत्रकारों को एक सूत्र में पिरोकर कार्य कर रहा है। शिवपुरी में पत्रकार साथियों को जनसंपर्क एवं संस्था द्वारा हर संभव सहायता मुहैया कराने के साथ-साथ आज हर पत्रकार को स्वयं भी मजबूत होने की आवश्यकता है। यह बात कही जम्प के संभा प्रभारी अजय सिंह कुशवाह ने जो स्थानीय होटल वनस्थली में पत्रकारों की बैठक को संबोधित कर रहे थे। बैठक में जिलाध्यक्ष सुनील व्यास भी मौजूद थे जिन्होंने संगठन की मजबूती के लिए पत्रकारों को मजबूत होने पर जोर दिया। यह बैठक संगठन की पहली बैठक थी जिसमें पत्रकार साथियों ने भी अपने-अपने विचार व्यक्त किए।

श्री खेड़ापति दरबार में संगीतमय श्रमीद् भागवत कथा का आयोजन

Image
शिवपुरी-शहर के प्रख्यात श्री खेड़ापति हनुमान मंदिर पर आने वाले भक्तों की मुरादें पूरी होने के बाद अपने संकल्प को पूरा करने के लिए विभिन्न धार्मिक अनुष्ठान आयोजित किए जाते है। मंदिर के महंत पुजारी लक्ष्मण दास त्यागी महाराज ने बताया कि सबके खेरों की सुनन वाले श्री खेड़ापति सरकार के चमत्कार का परिणाम है कि आए दिन मंदिर स्थल पर विभिन्न समाजसेवीयों एवं धर्मपें्रमीजनों द्वारा संगीतमय श्रीमद् भागवत कथा का आयोजन किया जाता है। इसी क्रम में रामसिंह-श्रीमती जानकी एवं किशन सिंह-श्रीमती चैनीबाई यादव परिवार द्वारा कथा का आयोजन किया गया है।

छात्रसंघ अध्यक्ष का कॉलेज प्रशासन पर हमला

शिवपुरी- शहर के शासकीय श्रीमंत माधवराव सिंधिया महाविद्यालय द्वारा इन दिनों प्रवेश के लिए प्रायवेट फार्म लेने पड़ रहे है। इस फार्म में भी महाविद्यालय प्रशासन द्वारा वसूली का खेल जारी है जबकि अभी तो यह फार्म जमा भी नहीं किए उसके पहले ही कॉलेज प्रशासन ने अपनी चालबाजी दिखाना शुरू कर दिया है। यह बर्दाश्त योग्य नहीं है। उक्त आरोप छात्रसंघ अध्यक्ष आशीष राठौर ने कॉलेज प्रशासन पर एक प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से लगाए।

भारत विकास परिषद का शिविर, दवाएं बांटी

Image
शिवपुरी-नगर की अग्रणी समाजसेवी संस्था भारत विकास परिषद की वीर तात्याटोपे शाखा द्वारा ग्राम नोहरीकलां में सामान्य चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में चिकित्सक डॉ. वीरेन्द्र कुमार गुप्ता एवं डॉ. राजेन्द्र कुमार गुप्ता द्वारा सभी ग्रामीणों का परीक्षण किया गया तथा चिह्निïत 234 रोगियों का परीक्षण कर उन्हें नि:शुल्क दवाएं प्रदाय की गईं। इस अवसर पर शाखा अध्यक्ष सुरेश चन्द्र शर्मा, सचिव धर्मेन्द्र अग्रवाल, राजकुमार सिंघल, दीपक सिंघल सहित अन्य सदस्य उपस्थित थे।

वृक्षारोपण के नाम पर वन विभाग का अतिक्रमण

Image
शिवपुरी- वनों के विस्तार के लिए अब वन विभाग शिवपुरी को बारिश के मौसम के बाद सुध आई है। जहां शहर के झंासी रोड के समीप रेंज ऑफिस के पास सरेआम रोड किनारे तार फेंसिंग कर वृक्षारोपण के नाम पर अतिक्रमण करते हुए  दुर्घटनाओं को आमंत्रण देने जैसा कार्य किया है। इस तार फेंसिंग से कई लोगों को परेशानी का सामना भी करना पड़ रहा है। नागरिकों की शिकायत है कि सड़क से महज 15 फिट के दूरी से ही वन विभाग ने तार फेसिंग शुरू कर दी जबकि इस स्थान से लोग पैदल निकलते है तो फिर कैसे यह वृक्षारोपण सही माना जाएगा। इस तार फेंसिंग के कारण अब दुर्घटनाऐं घटने का अंदेशा हर समय बना हुआ है।