गर्मी में राहत भरी खबर: दूसरे दिन भी सिंध के टैंकर आए | SHIVPURI NEWS

शिवपुरी। शहर के लिए सपना बनी सिंध जल परियोजना का पानी अब अंतत: शहरवासियों के लिए उपलब्ध होने लगा है। लंबे समय से जल संकट से जूझ रहे शिवपुरीवासियों को कल से सिंध के जल की सप्लाई से काफी हद तक राहत मिली है। ग्वालियर बायपास स्थित हाईडेंट से सैंकड़ों टैंकर भरे जा चुके हैं। गांधी पार्क, चीलौद, करौंदी संपवैल भर गए। सिंध के पानी की सप्लाई से शहर में जल संकट काफी हद तक कम हुआ है। शिवपुरी तक पानी लाने के बाद अब करौंदी संपवैल, फतेहपुर की टंकी और हाथी खाने को जोडऩे की तैयारी में है। अभी तक पोहरी बायपास पर लाइन क्लोज होने से हजारों लीटर पानी फैल रहा है। पोहरी बायपास पर हाईडेंट स्थापित होने से भी पानी का दुरूपयोग रोका जा सकता है। 

कल सुबह पांच बजे से शिवपुरी बायपास पर सिंध का पानी पहुंच गया था और उसके बाद से लगातार टैंकरों के  भरने का सिलसिला जारी रहा। पानी का पे्रशर भी अच्छा है जिसके कारण तीन हजार लीटर क्षमता के टैंकर महज दो से तीन मिनट में भरे जा रहे हैं। एक समय तो स्थिति यह हो गई कि नगरपालिका के पास हाईडेंट से पानी भरने के लिए टैंकर नहीं रहे इस कारण दोशियान सूत्रों का कथन है कि एक घंटे के लिए जल सप्लाई रोक दी गई। जल सप्लाई इसलिए भी रोकी गई, क्योंकि पोहरी चौराहे पर लाइन क्लोज होने के कारण बेतहाशा पानी फैल रहा था। 

इसके बाद सप्लाई की गई, लेकिन फिल्टर प्लांट के पास फिर लीकेज आने से सप्लाई रोकी गई। दोशियान के कर्मचारी विजयवर्गीय का कहना है कि ऐसी समस्याएं तो आएंगी, लेकिन शहरवासियों को पर्याप्त मात्रा में सिंध का पानी मिलेगा। लीकेज ठीक करने के बाद जल सप्लाई जारी है। अब बताया जा रहा है कि दोशियान करौंदी संपवैल, फतेहपुर की टंकी और हाथी खाने के चौपड़े को जोडऩे की तैयारी में है ताकि पोहरी बायपास पर पानी फैलने की समस्या से जहां मुक्ति मिलेगी वहीं जल संकट हल करने की दिशा में भी यह एक बड़ा कदम होगा। 

इसके अलावा दोशियान को अभी भी पूरे शहर में पानी की सप्लाई के लिए काफी काम करना है। अभी भी बहुत बड़े क्षेत्र में पाइप लाइन नहीं डली है, पानी की सभी 18 टंकियों को जोड़े जाने का काम बाकी है। इसके बाद ही सिंध का पानी लोगों के घरों तक टोंटीयों के जरिए पहुंचेगा।
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics