Ad Code

17 दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली, जैन समाज का मौन जुलूस, 2 अक्टूंबद से होगा आंदोलन

शिवपुरी। बीते राजे कोलारस पुलिस ने कोलारस लूट काण्ड को 16 घंटे में ट्रेस कर वाहवाही लूटी जो खनियांधाना में जैन मूर्ति चोरी के मामले में 17 दिन के दिन के बाद भी पुलिल के हाथ खाली हैं। इससे जैन समाज में पुलिस के खिलाफ महौल बन रहा हैंं। जैन समाज अब आंदोलन पर आमदा हो गया हैंं।

इसी कारण जिले के खनियांधाना कस्बे में रविवार को जैन समाज ने मौन जुलूस निकाला और इस दौरान कस्बे के बाजार पूरी तरह से बंद रहे। इस दौरान जैन समाज के बच्चे बडे बूढे सहित महिलाएं व युवतियां भी शामिल थी और यह मौन जुलूस शहर के विभिन्ना मार्गों से निकाला गया और चेतनबाग पहुंचकर एक तरफ की रोड जाम कर धरना दिया। जैन समाज के लोगों का कहना है कि बीते 12-13 सितम्बर की रात को अछरौनी जैन मन्दिर से 22 मूर्तियां चोरी हो गई थी। 

धटना के 17 दिन बाद भी पुलिस इन प्रतिमाओं को बरामद नही कर पाई है। जिसके विरोध मे रविवार की सुबह ऐलक सिध्दांत सागर महाराज के सानिध्य मे खनियांधाना, अछरौनी जैन समाज के लोगों ने मोन जुलूस निकाला।बडी संख्या मे बच्चे, महिलाएं भी इसमें शामिल हुए। जुलूस पार्श्‌वनाथ दिगम्बर जैन बडे मन्दिर से शुरू होकर नेमिनाथ दिगम्बर नया मन्दिर, पुरानी नगर पालिका चौराहा, टेकरी मन्दिर, नया बस स्टैंड होकर चेतनबाग पहुंचा एक तरफ की सडक को जाम कर धरना दिया। इसके बाद एक ज्ञापन भी सौंपा गया।

विरोध किए बिना नहीं होता किसी समस्या का हल
ऐलक सिध्दांत सागर महाराज ने कहा लोकतंत्र मे शासन प्रशासन का विरोध किए बिना कोई समस्या का हल नहीं होता है। हमें यदि अपनी आस्था की चोरियों को रोकने का काम स्वयं भी करना होगा। क्योंकि जब जनशक्ति उवर कर सड़कों पर आ जाती है तब शासन-प्रशासन में एक अद्वितीय उथल पुथल होती है। परिणाम यह आता है कि असामाजिक तत्व और प्रशासन की गठजोड़ टूट जाती है और नेताओं के फोन आना पुलिस प्रशासन के पास बंद हो जाते है। 

यदि हमें अपनी अस्मिता और आस्था की चोरी रोकना है तो हमें सतत आंदोलन जाना पड़ेगा आंदोलन को मात्र रस्म बनाकर हमें उसे प्रभावी बनाना होगा। जैसे बिन रोये मां अपने शिशु को कभी दूध नहीं पिलाती है। ठीक इसी तरह बिना विरोध और आंदोलन के अछरौनी दिगंबर जैन मंदिर से चोरी गई मूर्तियां बरामद नहीं हो सकती है। राजमहल के रामजानकी मन्दिर के कलश चोरी का मुद्दा उठाया और उन्होंने कहा पुलिस प्रशासन को हर धर्म स्थलों की चोरी घटना का पता लगाना होगा। धर्म स्थलों की चोरियां एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना होती है। 

चोरी पकड़ना पुलिस का काम है जिसे मुस्तैदी के साथ करना चाहिए। ऐलक सिद्धांत सागर के द्वारा आंदोलन की रूपरेखा रखी गई तो उपस्थित जन समुदाय ने एकमत होकर आंदोलन को आगे बढ़ाने का हाथ उठाकर संकल्प लिया। 

नगर के प्रमुख गांधी चौक पर धरना प्रदर्शन एवं विशाल जनसभा का आयोजन 2 अक्टूबर से किया जाएगा। जैन समाज के लोगों में पुलिस की कार्यप्रणाली को लेकर आक्रोश था और जैन समाज के लोगों ने चेतनबाग पर दोनों तरफ का रास्ता जाम कर दिया था जिससे वाहन निकलने में परेशानी का सामना करना पड रहा था। ऐलक सिद्धांत सागर के कहने पर जैन समाज के लोगों ने एक तरफ का रास्ता खोल दिया जिससे वाहन आसानी से आ जा सकें। 

टीआई ने मांगा समय
चेतनबाग पर टीआई खनियाधाना प्रदीप वॉल्टर भी मौजूद थे और उन्होंने समाज के लोगों को आश्वस्त करते हुए कहा कि हम केस की बराबर से जांच पड़ताल कर रहे हैं हमें पांच-छह दिन का और समय चाहिए कुछ जानकारियां हैं जिनको मैं उजागर नहीं कर सकता लेकिन यह मैं जरूर प्रॉमिस करता हूं चोर जल्द से जल्द पुलिस की गिरफ्त में होंगे।