Ad Code

पीएम आवास योजना में भ्रष्टाचार करने वाली संस्था बर्खास्त | Shivpuri

शिवपुरी। पीएम आवास योजना के पाऋ हितग्राहियो के चयन के लिए सागर की एनजीओ को इस काम के लिए अधिकृत किया था,लेकिन लगतार इस संस्था के कर्मचारियों द्ध् वारा भ्रष्टाचार करते हुए आपात्रो का चयन करने और पात्रो को आॅफिस के चक्कर लगवाते देखा जा रहा था इस कारण नपा प्रशासन ने इस संस्था को बर्खास्त करते हुए हितग्राही चयन के लिए दूसरी संस्था को काम सौपा दिया हैं। 

यह हैं हितग्राही चयन की गाईड लाईन 
एनजीओ ने अपात्र हितग्राहियों का चयन किया  आवास योजना के लाभार्थी आधारित व्यक्तिगत आवास (बीएलसी) घटक में उन्हीं लोगों को लाभ मिलना है जिनका कच्चा घर है या मकान नहीं है और खाली प्लॉट है। ऐसे हितग्राहियों का सर्वे कर पूरे दस्तावेजों की जांच कर फाइल तैयार कर पैसे हितग्राही का चयन करना था,लेकिन उक्त संस्था ने भ्रष्टाचार कर अपात्र हितग्राहियों का चयन कर उनके खाते में पैसे रिजीज कर दिए।शिकायतों के बाद 14 अपात्रों के खातों में जारी राशि नगर पालिका ने वापस मंगाई। हितग्राहियों से वसूली के भी आरोप एनजीओ के लोगों पर लगे। इस कारण कुछ लोगों को काम से निकाला भी गया था।

एलिस संस्था ने भुगतान के लिए 153 हितग्राहियों की लिस्ट सौंपी 
सागर की कृष्णा प्रेम सर्वोदय संस्था एनजीओ द्वारा काम बंद करने के बाद नगर पालिका ने एलिस संस्था को काम दिया है जिसने 153 हितग्राहियों की लिस्ट बनाई है जिन्हें दूसरी किस्त के भुगतान के लिए अकाउंट शाखा में लगा दिया है। अन्य हितग्राहियों की भी सूची संस्था द्वारा बनाई जा रही है। अधिकारियों का दावा है कि एक सप्ताह में दूसरी किस्त के 1100 हितग्राही हो जाएंगे। इसके बाद शासन से दूसरी किस्त मांगी जाएगी।