पचीपुरा जल आवर्धन योजना से नगर को मिलेगा 24 घंटे पानी: भारती

बैराड़। नगर परिषद क्षेत्र की 30 हजार आबादी के लिए पेयजल समस्या के स्थाई समाधान के लिए भारत सरकार द्वारा चलाए जा रहे प्रोजेक्ट उदय अभियान के तहत शहरी जलप्रदाय योजनांतर्गत पचीपुरा तालाब से जल आवर्धन परियोजना का सोमवार को विधायक प्रहलाद भारती ने शिलान्यास किया। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम की अध्यक्षता नप अध्यक्ष सुशीला दौलतसिंह रावत ने की। विशिष्ट अतिथि के रुप में नपा उपाध्यक्ष हर्षवर्धन व्यास, विधायक प्रतिनिधि देवेंद्र गुप्ता मौजूद रहे। 

विधायक भारती ने बताया कि इस योजना के पूर्ण हो जाने के बाद नगरवासियों को 24 घंटे पानी मिलेगा। भारती  ने कहा कि काफी समय से चली आ रही नगर की पेयजल समस्या समाप्त हो जाएगी परियोजना के बारे में अधिक जानकारी देते हुए मध्य प्रदेश अर्बन डेवलपमेंट कंपनी के सब इंजीनियर रामवरण त्यागी ने बताया कि पचीपुरा तालाब से बैराड़ तक पानी लाने की संपूर्ण परियोजना की लागत 22 करोड़ 27 लाख आएगी। वहीं 22 माह की समयावधि में दिसंबर 2019 में परियोजना पूर्ण हो जाएगी। निर्माण एजेंसी द्वारा 10 वर्ष तक मेंटेनेंस का कार्य स्वयं के व्यय पर किया जाएगा।

परियोजना के तहत पचीपुरा तालाब पर एक इंटेकवॉल एक वाटर ट्रीटमेंट प्लांट सहित नगर में 3 लाख लीटर क्षमता की तीन नई टंकियों का निर्माण कराया जाएगा पानी की टंकी बनने के लिए इन स्थानों  का चयन किया गया  है जिसमें पचीपुरा गांव में फिल्टर प्लांट के पास, नगर परिषद कार्यालय प्रांगण, भदेरा माता मंदिर के पास है। जलावर्धन परियोजना के तहत संपूर्ण नगर के हर गली मौहल्ले तक पानी पहुंचाने के लिए 89 किलोमीटर लंबी पाइप लाइन डाली जाएगी। मीटर वाले नल कनेक्शन के माध्यम से हर घर में 24 घंटे पानी पहुंचाया जाएगा। नगर परिषद क्षेत्र के कालामढ, पचीपुरा, पुराना बैराड़, कॉलोनी, भदेरा, गोदोलीपुरा, वमनपुरा, गंगापुर को जलावर्धन योजना से लाभ मिलेगा।

इनका कहना है
आमजन के हित से जुड़ी हुई सभी योजनाएँ मेरी प्राथमिकता में हैं पचीपुरा तालाब से बैराड़ नगर को जलावर्धन परियोजना के लिए पानी दिलाना मेरी सर्वोच्च प्राथमिकता में शामिल था अब बैराड़ में पेयजल की समस्या का स्थाई समाधान हो जाएगा।
प्रहलाद भारती, विधायक पोहरी
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics