Ad Code

Responsive Advertisement

क्लीनर ने इंदौर के नाबालिग लुटेरों के साथ दिया था ट्रक लूट को अंजाम,दबौचे | karera News

शिवपुरी। जिले के करैरा अनुविभाग के दिनारा थाना क्षेत्र के वरखुआं गांव के पास टमाटर बेचकर लौट रहे ट्रक चालक के साथ कट्टे की नोंक पर 1 लाख 19 हजार 500 रूपए से भरा बैग लूटने वाले दो नाबालिग बदमाशों को पुलिस ने आज धरदबोचा जिनके पास से पुलिस ने लूटी गई रकम में से 60 हजार रूपए और घटना में प्रयुक्त 315 बोर का कट्टा व दो जिंदा राउण्ड बरामद किए हैं। जबकि दो अन्य आरोपियों की तलाश में पुलिस जुट गई है। 

एसपी राजेश हिंगणकर ने पुलिस कंट्रोल रूम पर आयोजित पत्रकारवार्ता में उक्त मामले का खुलासा करते हुए बताया कि 10 नवम्बर 2018 की रात्रि ट्रक चालक राजकुमार पुत्र नथुआराम धाकड़ उम्र 38 वर्ष निवासी नई पुलिस लाइन शिवपुरी ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि ट्रक मालिक हलीम खान का ट्रक क्रमांक एमपी 09 एचएच 8446 का ट्रक लेकर वह क्लीनर रमेश (परिवर्तित नाम) निवासी ग्राम चौकी थाना म्याना के साथ नासिक महाराष्ट्र से ट्रक में टमाटर भरकर उत्तरप्रदेश के वाराबंकी पहुंचा था जहां से टमाटर बेचकर वह भाड़े के 1 लाख 19 हजार  500 रूपए बैग में रखकर शिवपुरी की ओर रवाना हुआ। जहां रास्ते में हार्हवे पर स्थित वरखुआं गांव के पास सुबह करीब साढ़े पांच बजे तीन लड़कों ने उसका ट्रक रोक लिया और मारपीट की। 

बाद में एक बदमाश ने उसके सिर पर कट्टा अड़ाकर ट्रक में रखा बैग लूटकर अपाचे गाड़ी से दिनारा की ओर भाग गए। पुलिस ने उस समय अज्ञात बदमाशों के खिलाफ भादवि की धारा 394, 25/27 आम्र्स एक्ट सहित 11/13 एमपीडीपीके एक्ट के तहत प्रकरण पंजीबद्ध किया और मामले में सायबर सेल की सहायता से जांच शुरू की। इस दौरान उन्हें ट्रक के क्लीनर रमेश पर शक हुआ और उसके मोबाइल नंबर की सीडीआर डिटेल निकाली जिसके आधार पर संदेही रोहित (परिवर्तित नाम) निवासी खैरोना थाना तेंदुआ को पूछताछ के लिए उठा लिया। 

इस दौरान पूछताछ में संदेही रोहित ने अन्य दो लोगों के साथ मिलकर क्लीनर रमेश द्वारा बनाई योजना के तहत लूट को अंजाम देने का खुलासा किया जिस पर पुलिस ने आरोपी रमेश और रोहित को गिरफ्तार कर लिया और दोनों के पास से 30-30 हजार रूपए व एक 315 बोर का देशी कट्टा व जिंदा राउण्ड को जप्त कर लिया। इस कार्रवाई में थाना प्रभारी कैलाशनारायण शर्मा, चौकी प्रभारी थनरा अरविन्द राजपूत, एएसआई विनोद गौतम, रामनिवास शर्मा, प्रधान आरक्षक चरण सिंह, राजेन्द्र यादव, आरक्षक दीपक, दीपेन्द्र, मनीष, विशाल, अंकित एवं रामवीर की विशेष भूमिका रही।