यह है डेवलपमेंट चैलेंज: टॉय ट्रेन, वाकिंग ट्रेक और ये सबकुछ होना चाहिए जाधव सागर तालाब पर

ललित मुदगल/शिवपुरी। आजकल देश की सोशल मीडिया पर फिटनिस चैलेंज छाया हुआ है। लोग खुद को फिट बता रहे हैं और दूसरों को चुनौती दे रहे हैं। भारत के खेल मंत्री हर्षवर्धन से शुरु हुआ यह चुनौतियों का खेला भारतीय क्रिकेट कप्तान विराट कोहली से होता हुआ प्रधानमंत्री तक पहुंचा और फिर सारे देश में फैल गया। अब हमे भी फिटनेस चैलेंज स्वीकार कर लेना चाहिए। हमे सबसे पहले अपने शहर की फिटनेस  सुधारने के लिए डेवलपमेंट प्लान तैयार करना चाहिए। आज हम शहर की फिटनेस सुधारने के लिए शहर के कर्ताधर्ताओं को एक डेवलपमेंट प्लान शेयर कर रहे है। और प्रशासन को चैलेंज कर रहे है कि ऐसा कुछ आप करके दिखाइए। 

डेवलपमेंट से दूर शिवपुरी में विकास और टूरिज्म की अपार संभावना है। हर शिवुपरी वासी को यह डेवलपमेंट प्लान के चैलेंज में भाग लेना चाहिए। शिवपुरी में कभी दर्जन भर तालाब हुआ करते थे, लेकिन अब उनमें अधिकांश: तालाबों में मकान उग गए है। भूमाफियाओं और अतिक्रमणकर्ताओं ने तालाबों को मकानों से पाट दिया है। 

अहमदाबाद में बीच शहर में एक तालाब है जिसे काकडिया लेक के नाम से जाना जाता है। इस लेक को अमदाबाद प्रशासन ने पूर्ण डेवलप कर दिया है। अब यह लेक अहमदाबाद की शान है, इस लेक को अहमदाबाद के अतिरिक्त देश-विदेश से घूमने आते है। शिवपुरी से मैं भी इस लेक को देखने गया था। 

अहमदाबाद निवासी इस लेक पर अपने बच्चो को लेकर घुमने आते है। बच्चो के लिए यहां टॉयट्रेन चलती है। इसके अतिरिक्त यहां बच्चो को आकर्षित करने के कई संसाधन है। इस लेक के चारों ओर आमजन के लिए रंनिग ट्रेक बनाया गया है। इस ट्रेक पर लोग सुबह-शाम की सैर करते है और सुबह के समय इस ट्रेक पर युवाजोश पूरी ताकत के साथ स्वास्थ्य लाभ और प्रतियोगिता की तैयारी के लिए दौडते है। इस लेक की साफ सफाई के लिए प्रशासन ने उपयुक्त व्यवस्था कर रखी है। 

इस लेक के चारों ओर हरियाली है। पानी और हरियाली के कारण इस स्थान का ट्रेम्परेसर समान्य से कम रहता है। अमहमदाबाद के हर आमो और खास लोगों के लिए यह लेक अपने परिवार के साथ सैर करने का सर्वोत्तम स्थान हैँँ। शिवपुरी में भी ऐसे तालाबों को विकसित किया जाना चाहिए। शिवपुरी के जाधव सागर तालाब को ककडिया लेक की तर्ज पर विकसित किया जा सकता है।

हालाकि यह शिवपुरी का जाधव सागर तालाब सिंधिया ट्रस्ट के अधीन है, लेकिन संभावनाओं से इंकार नही किया जा सकता है, नगर पालिका शिवपुरी इसकी साफ-सफाई की व्यवस्था करती है और पानी का उपयोग भी नपा करती है। इस तालाब के चारों ओर इतनी जगह है जहां वांकिग ट्रेक बनाया जा सकता है, और ट्रॉय ट्रेन चलाई जा सकती है।  

इस तालाब का गहरीकरण होना चाहिए। इसके चारों ओर वह व्यवस्था होनी चाहिए जो ककडिया लेक पर है। शहर में दम तोड चुके तालाबों को इसी प्रकार संरक्षित किया जा सकता है। ऐसे डेवलपमेंट से शहर को डबल फायदा है, एक तो तालाब संरक्षित होंगें और शहर का वाटर लेवल भी बढ़ेगा।

पाठको से अनुरोध है कि ऐसा की आपके पास कोई शहर के डेवलपमेंट प्लान है तो पूरी डिटेल से हमे मेल करे या हमारे 8959318001 पर व्हाटसप कर फोन करे। हो सकता है कि आपका डेवलपमेंट प्लान शहर के लिए उपयोगी हो।
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics