Ad Code

काले और फटे नोट बदले जाएंगे बैंकों में, बैंकों को दिए नावार्ड ने आदेश | SHIVPURI NEWS

शिवपुरी। भारतीय तिब्बत सीमा पुलिस बल शिवपुरी के कैंपस में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के द्वारा आयोजित वित्तीय साक्षरता जागरूकता कार्यक्रम में तीन सैकड़ा से अधिक जवानों और ऑफिसरो को वित्तीय साक्षरता के मामले की जानकारी दी। 

कार्यक्रम के इस अवसर पर ए.के. द्विवेदी महाप्रबंधक भारतीय रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने पुलिस जवानों को एटीएम से पैसे निकालने और ट्रांसफर करने से लेकर ऑनलाइन शॉपिंग तक हो रही ठगी के बारे में जानकारी दी उन्होंने कहा कि आज के युग में ठगी करने वाले बड़े सक्रिय हो गए और आए दिन नए नए तरीके अपनाते हैं और इस दौरान पढ़े-लिखे युवाओं डॉक्टरों और जजों के खाते से भी पैसे निकल ने की घटनाएं  आपने अखबारों में पढ़ी होंगी  इसके लिए सावधानी ही बचाव है!  

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के सहायक महाप्रबंधक अजय पालीवाल ने आईटीबीपी के जवानों को बताया कि अगर आप के 50 के नोट से लेकर 2000 तक के नोट का 50% हिस्सा गायब है तो आपको उसी नोट का आधा भुगतान बैंक द्वारा किया जायेगा वहीं यदि आप के नोट का 80% हिस्सा आपके पास सुरक्षित है और 20% गायब है चाहे वह दोनों तरफ के नंबर क्यों ना हो बैंक के द्वारा आपको पूरा भुगतान किया जाएगा। 

वही 20 से कम के नोटों का अगर 50% हिस्से से ज्यादा भाग आपके पास उपलब्ध है तो उसका पूरा भुगतान होगा और अगर 50% से कम या 50% ही है तो उसका कोई भुगतान नहीं होगा  श्री पालीवाल ने कहा कि हमने बैंकों को निर्देश दिए हैं कि वह अपनी अपनी शाखा में फ्लेक्स लगवाए और उस पर  नोट बदलने से संबंधित संपूर्ण जानकारी लिखें इससे ग्राहकों में जागरूकता बढ़ेगी।

डीडीएम नाबार्ड जिला शिवपुरी राजा अय्यर ने कहा कि हम ग्रामीण क्षेत्रों में बैंकों के माध्यम से वित्तीय साक्षरता जागरूकता कार्यक्रमों का आयोजन करा रहे है इससे लोगों में वित्तीय साक्षरता के प्रति जागरूकता बढ़ेगी और खाताधारक ठगी का शिकार होने से बचेंगे इस दौरान डीडीएम नाबार्ड से कई जवानों ने सवाल भी किए उन्होंने एक एक करके  सरल भाषा में उनका जवाब दिया।

इस कार्यक्रम में भारतीय स्टेट बैंक से एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस,एसबीआई यूनो के अधिकारी उपस्थित रहे कार्यक्रम में ITBP के सूबेदार मेजर प्रेम सिंह जी भारतीय स्टेट अग्रणी बैंक प्रबंधक पद से सेवानिवृत्त महेश शर्मा शाखा प्रबंधक के पद से सेवानिवृत्त एके सक्सेना और भारतीय तिब्बत सीमा पुलिस बल के अधिकारी और जवान उपस्थित रहे!