Ad Code

श्रेय के भूखे सिंधिया ने अधूरे मेडिकल कॉलेज का लोकार्पण कर दिया: भाजपा | Shivpuri News

शिवपुरी। आज शिवपुरी के मेडिकल कॉलेज का क्षेत्रीय सांसद सिंधिया ने उदघाटन किया हैं। शिवपुरी समाचार डॉट कॉम ने इस कॉलेज के लोकार्पण पर सवाल उठाया था कि बिना एमसीआई के मान्यता के क्यो उदघाटन किया जा रहा है। इसके बाद भाजपा ने भी इस उदघाटन समारोह पर सवाल खडे कर दिए है। सोशल मिडिया भाजपा की प्रदेश कार्यकरणी सदस्य धैर्यवर्धन शर्मा ने कई तीखे सवाल सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया से किए है। हम इस प्रेस नोट को सशब्द प्रकाशित कर रहे हैं। 

लोकसभा चुनाव में लाभ लेने की मंशा से आनन फानन में शिवपुरी के मेडीकल कॉलेज का उद्घाटन आज स्थानीय सांसद माननीय ज्योतिरादित्य सिंधिया जी एवं प्रदेश की स्वास्थ्य मंत्री के कर कमलों से होने जा रहा है। समझ से परे है कि इस कार्यक्रम में स्थानीय विधायक और पूर्व मंत्री माननीय यशोधरा राजे जी सिंधिया को आमंत्रित क्यों नही किया गया । समाचार पत्रों को जारी किए विज्ञापनों में भी राजे साहब का नाम या फ़ोटो कहीं भी नही दिया गया है।

अभी लैब तैयार है नही, होस्टल पूरा तैयार है नही, 300 बिस्तर का अस्पताल बना नहीं है, बिल्डिंग अधूरी है, रास्ता तैयार है नहीं, समस्त प्रकार की एनओसी मिलने के बाद विधवत नॉटिफिकेशन होता है वह हुआ नहीं है ।भर्ती प्रक्रिया प्रारंभ नही हुई है! केवल लोकसभा चुनाव का फायदा उठाने के लिए सिंधिया सरकार जबरन उद्घाटन के लिए बन बैठे।

हर आम ओ खास इस तथ्य से सुपरिचित है कि पिछले लोकसभा चुनाव के पूर्व सिंधिया जी ने तत्कालीन स्वास्थ्य मंत्री गुलाम नबी आजाद जी से शिवपुरी बुलाकर चुनावी लाभ लेने के लिए महज कागजी घोषणा करवाई थी । कागजी घोड़े दौड़ाने के अलावा सिंधिया सरकार ने कुछ भी नही किया था । उस चुनाव में सिंधिया जी तो जैसे तैसे चुनाव जीत गए थे पर मनमोहन सिंह सरकार के खिलाफ जनादेश के कारण ये केन्द्र में मंत्री भी नही रहे थे।
वह दृश्य भी याद है जब सिंधिया जी संसद में स्वास्थ्य मंत्री जे पी नड्डा जी से गुहार लगा रहे थे तब भाजपा सरकार में पहली बार ईमानदारी से राज्य सरकार को इस आशय का प्रस्ताव केन्द्र को भेजने के लिए कहा गया । मतलब उस दिन तक सब कुछ दिखावा ही था ।

भाजपा नीत मोदी सरकार बनने के बाद स्थानीय विधायक राजे साहब ने इस विषय को गंभीरता से लेते हुए न केवल राज्य सरकार से कागजी लिखित प्रस्ताव केन्द्र को भिजवाया बल्कि राज्य सरकार के हिस्से के करोड़ो रूपये भी तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह जी से दिलवाए। मोदी सरकार और शिवराज सरकार दोनो ने पूरी राशि देकर मेडिकल कॉलेज का निर्माण कराया । राज्य के स्वास्थ्य मंत्री रहे डॉ नरोत्तम मिश्रा एवं रुस्तम सिंह गुर्जर जी ने राजे साहब की अपेक्षा के अनुरूप सहयोग किया।

उसके बाद पुस्तकालय एवं अन्य कार्य के लिए पुनः हमारी विधायक राजे साहब की मांग पर एक बार फिर लगभग 7 करोड़ से अधिक की राशि शिवराज सरकार ने दी। राजे साहब ने नर्सिंग सहित तीन अन्य फैकल्टी दिलाने का आदेश और समुचित राशि का अतिरिक्त प्रावधान भी कराया ।समय समय पर राजे साहब ने कई बार इसका निरीक्षण भी किया ताकि काम गुणवत्ता पूर्ण हो और जल्द से जल्द हो सके ।

असली हकदार राजे साहब की ऐसी उपेक्षा निंदनीय है। बेहतर होता कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री, राज्य की स्वास्थ्य मंत्री के साथ साथ स्थानीय सांसद एवं विधायक दोनो इस कार्यक्रम में होते। ये तो कृतघ्नता है साहब ,मैं एक बार पुनः कार्यक्रम के इस विद्रूप स्वरूप और छिछोरी हरकत की पुरजोर निंदा करता हूँ। कांग्रेस सरकार हाय- हाय,ज्योतिरादित्य सिंधिया हाय -हाय।