ShivpuriSamachar.COM

Bhopal Samachar

कर लो कट्टी इकठ्ठी, नही आ रही सिंध: पहला टारगेट अचीव नही पाए प्रभारी मंत्री | Shivpuri News

शिवपुरी।कांग्रेस की सरकार बनते ही शिवपुरी प्रवास पर आए कैबिनेट मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर ने शिवपुरी में आयोजित अंत्योदय मेले में कहा था कि शहर की जनता को 15 फरवरी तक सीवर और पानी समस्या से निजात दिला देंगे लेकिन उनकी समय सीमा निकल जाने के बाद भी शहर में पानी नहीं आया और सीवर लाईन बिछाने के पर खोदी जा रही सडक़ों निजात मिल पाई। कुल मिलाकर अपना पहला टारगेट भी अचीव नही कर पाए प्रभारी मंत्री,क्यो कि नपा से खबर आ रही हैं कि कर लो कट्टी इकठ्ठी। 

कांग्रेस की नगर पालिका ने एक माह बाद आज परिषद की बैठक में खुले रूप से नगर पालिका उपाध्यक्ष अनिल शर्मा ने साफ शब्दों में कहा है कि सिंध का पानी हमसे कोसों दूर हैं, मैं नहीं मानता की शहर के लोगों हम नल की टोंटी से इस गर्मियों में पानी दे पायेंगे। 

जब सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कलेक्ट्रेट की बैठक में हमसे कहा था कि आप ईएनसी के साथ बैठक करें तब भी हमने साफ शब्दों में कहा था कि शहर को चार जॉन में बांट दो और इतना भर कर दो कि सोनचिरैया सहित चारों जॉनों में एक-एक हाईडेंट उपलब्ध करा कर वहां तक पानी दे दों जिससे पूर्व की गर्मियों की भांति इस बार भी शहर में पेयजल परिवहन हेतु पानी उपलब्ध आसानी से हो सके।

जिससे शहर की जनता को हम पानी उपलब्ध करा सकें। क्योंकि न तो शहर में ठीक से लाईन बिछाई जा रही हैं। जो बिछाई गई हैं उसके माध्यम से लोगों को कनेक्शन भी नहीं दिए जा रहे हैं। ऐसे में लोगों के सामने एक बार फिर जल संकट के दौर से गुजरना पड़ सकता हैं। इसके लिए मैने सीएमओ से कहा है कि गर्मियों में आने वाली पानी समस्या की जो भी सामग्री खरीदना हैं उसकी भी स्वीकृति परिषद के द्वारा आज दे दी गई हैं। 

यहां बताना होगा कि 16 फरवरी के बाद 18 फरवरी  को होने वाली नगरपालिका परिषद की बैठक स्थगन के बाद आज नये सिरे से नगरपालिका सभागार में आयोजित की गई, जिसमें सर्व प्रथम राष्ट्रगान के साथ परिषद की बैठक प्रारंभ की गई। बैठक के एजेण्डे में शामिल 30 बिंदुओं में 5 बिंदुओं पर आपत्ति दर्ज कराई। जिनका एक आवेदन बनाकर नगर पालिका को सीएमओ को सौंपा गया। वांकी  शहर विकास के बिन्दुओं को पूरी परिषद ने सर्व सम्मति से पास कर दिया गया। 

वहीं सिद्धेश्वर मेला के बिन्दु पर सर्व सम्मत्ति से सभी पार्षदों ने कहा कि मेला नगर पालिका परिषद के द्वारा ही सिद्धेश्वर मेला ग्राउण्ड में ही लगाया जाए। वहीं पोहरी बस स्टेण्ड के रख रखाब  के लिए तीन वर्ष के लिए ठेके के माध्यम संचालन कराने की बात कहीं लेकिन पार्षदों ने इस बिन्दु पर आपत्ति जताते हुए कहा कि पोहरी बस स्टेण्ड का ठेका एक वर्ष के लिए होना चाहिए क्योंकि यहां बस स्टेण्ड की ठेकेदार के माध्यम से ठीक सफा सफाई नहीं की जाती हैं।

वहीं पोहरी बस स्टेण्ड  अतिक्रमण की चपेट में भी आ गया हैं। इसके लिए मिनिट बुक में दर्ज किया गया कि पोहरी बस स्टेण्ड का ठेका एक वर्ष के लिए किया जाएगा और सफाई कार्य के लिए नगर पालिका स्वयं अपनी निगरानी में नपा के कर्मचारियों से कराएगी लेकिन उनका भुगतान ठेकेदार के माध्यम से किया जाएगा। शहर बैठक बसूली अन्य विज्ञापन होर्डिंग सहित टेंडरों के माध्यम दिये जायेंगे। 

वहीं लुहारपुरा पुलिया के पास नगर पालिका की दुकान की नीलामी की बिन्दु को निरस्त कर कहा कि सभी दुकानों की एक विज्ञप्ति निकाल कर पुन: बोली लगवाई जाए जिससे नगर पालिका को राजस्व की आय प्राप्त हो सकेगी।  

इस बार फिर शुरू होगा पानी के टेंकरों गोरख धंधा, परिषद ने दी स्वीकृति  
नगर पालिका परिषद ने आज सर्व सहमति से शहर की जनता को पानी की समस्या से निजात दिलाने के लिए। नगर पालिका परिषद के माध्यम से 24000, 12000, 2500 लीटर क्षमता के छोटे एवं बड़े टेंकर लगाने के लिए व्य राशि की स्वीकृति परिषद के माध्यम से पास करा ली हैं। इससे साफ जाहिर होता हैं कि एक बार फिर पानी के नाम पर गोरख धंधा फिर शुरू होगा। भले करोड़ों रूपए की सिंध जलावर्धन योजना का पानी इस बार शहर की जनता को मिलना वमुश्किल हैं। इसके पीछे कोई और नहीं नगर पालिका के अधिकारी एवं कर्मचारी हैं जिम्मेदार हैं।


इन बिन्दुओं पर परिषद में नहीं बनी सहमति 
समस्त पार्षदों ने एक स्वर में कहा कि बिन्दु क्रमांक 20 के लिए पीआईसी निर्णय के आधार पर मामला विचाराधीन हैं वहीं बिन्दु क्रमांक 25 व 27 की स्वीकृति दी जाती हैं तथा से 39 वार्डों में प्रथक-प्रथक से निविदा कार्य किया जाए जिससे जल्द से जल्द सुविधा मिल सके। 

वहीं बिन्दु क्रमांक 29 स्वच्छता में पूरी जानकारी न देने के कारण अगली परिषद के लिए किया जाता हैं। बिन्दु क्रमांक 30 यह निर्णय लिया गया है कि अभी तक समस्त पीआईसी ठहराव की सूची सभी पार्षदों को उपलब्ध कराकर परिषद में रखा जाए तभी इन बिन्दुओं पर विचार किया जाएगा। 

 शहर में पाईप लाईन प्लास्टिक की डाली जा रही हैं भुगतान लोहे की लाईन का  
शहर में पाईप लाईन बिछाने के नाम पर काफी भ्रष्टाचार उजागर हुआ हैं। यहां प्रत्येक वार्ड के हिसाब से 22 फाईन बनाई गई जिनमें प्लास्टिक के पाईप बिछाए जा रहे हैं। लेकिन जब नगर पालिका परिषद इस पाईप लाईन के लिए की गई खुदाई के मामले में जब नगर पालिका के कर्मचारियों ने फाईल मंगाई तो उसमें वार्ड क्रमांक 9 के पार्षद आकाश शर्मा ने उस फाईल को खोलकर देखा तो उसमें भी एक बड़ा मामला उजागर हुआ कि धरातल पर तो प्लास्टिक के पाईप डाले जा रहे हैं, लेकिन नगर पालिका की नोटसीट पर लोहे के जीआई पाईपों का भुगतान कराया जा रहा हैं। इस मुद्दे पर काफी बहस हुई लेकिन इस को पास नहीं किया गया। 
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

-----------

analytics