अध्यापकों के छठवें वेतनमान के एरियर भुगतान के बाद निकलेगा संकुल प्राचार्य का वेतन, निर्देश जारी | Shivpuri News

शिवपुरी। अध्यापक संवर्ग को छठवे वेतनमान के एरियर के प्रथम किस्त की राशि जो कि उन्हे आठ माह पूर्व मई में भुगतान होनी थी। संकुल प्राचार्यों व आहरण संवितरण अधिकारियों की लापरवाही के चलते अध्यापकों को एरियर की प्रथम किस्त की राशि आठ माह बीत जाने के बाद भी अध्यापकों को नही मिल पाई है। जिले के कई संकुल तो ऐसे हैं जहां एक भी अध्यापक को एरियर की राशि का भुगतान नही हुआ है।

अध्यापक संविदा शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष राजकुमार सरैया एवं आजाद अध्यापक संघ के जिलाध्यक्ष सुनील वर्मा एवं कार्यवाहक जिलाध्यक्ष विपिन पचौरी व अध्यापक कांग्रेस के जिलाध्यक्ष अमरदीप श्रीवास्तव ने वताया कि संयुक्त मोर्चा द्वारा भी जिला शिक्षाधिकारी आर वी सिंडोस्कर से एरियर की प्रथम किस्त की राषि समस्त अध्यापकों को दिलाये जाने की मांग ज्ञापन के माध्यम से संघ द्वारा कई वार की गई थी। 

जिस पर यथा समय जिला शिक्षाधिकारी ने त्वरित कार्यवाही कर तीन वार नोटिस संकुल प्राचार्य व आहरण संवितरण अधिकारी को जारी किये थे। जिस पर कुछ अध्यापकों की सेवापुस्तिका जिला पंचायत से प्रमाणित कराकर एरियर का भुगतान तो कर दिया गया। लेकिन अध्यापकों का बहुत बड़ा समूह एरियर के लाभ से आज भी वंचित है। 

कर्मचारी संघों की मांग पर इस प्रकरण को गंभीरता से लेते हुये जिला शिक्षाधिकारी आर वी सिंडोस्कर ने जिले के समस्त संकुल प्राचार्य व आहरण संवितरण अधिकारी को पत्र जारी कर एरियर की राषि समस्त अध्यापकों को भुगतान कर इस आशय का प्रमाणीकरण मांगा है तथा प्रमाणीकरण प्रस्तुत करने के उपरान्त ही संबधित संकुल प्राचार्य एवं आहरण संवितरण अधिकारी को अपना वेतन आहरित करने के निर्देष दिये हैं। 

तथा अध्यापक संवर्ग के लोक सेवकों की नियुक्ति राज्य स्कूल शिक्षा सेवा संवर्ग में होने पर अध्यापकों को प्राप्त छठवे वेतनमान के समकक्ष सातवे वेतनमान के भत्ते व वेतन देने की कार्यवाही प्राथमिकता से करने के निर्देष आहरण संवितरण अधिकारी को जिला शिक्षाधिकारी ने पत्र जारी कर दिये हैं। त्वरित कार्यवाही करने पर संघ ने जिला शिक्षाधिकारी का आभार माना है। 
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

-----------

analytics