Ad Code

अध्यापको ने मनाया शौर्य दिवस: केश कुर्बान करने वाले शिक्षकों को सम्मान किया | Shivpuri News

शिवपुरी। प्रदेश स्तरीय आंदोलन के दौरान अपनी मांगों के समर्थन में 13 जनवरी 2018 को आजाद अध्यापक संघ की प्रदेश अध्यक्ष शिल्पी शिवान सहित सैंकड़ों पुरूष एवं महिला अध्यापकों ने अपने केश त्याग कर मुंडन राजधानी भोपाल में कराया था। जिसके ठीक एक वर्ष बाद प्रदेश के प्रत्येक जिले में आज शौर्य दिवस मनाया गया।

शिवपुरी में आजाद अध्यापक संघ के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष एस के शिवहरे के मुख्य आतिथ्य में शौय दिवस आयोजित हुआ। आजाद अध्यापक संघ के जिलाध्यक्ष सुनील वर्मा एवं महिला मोर्चा जिलाध्यक्ष रिजवाना खांन ने संयुक्त रूप से बताया  कि होटल सनराईज में आज आजाद अध्यापक संघ ने मुडंन कराने वाले अध्यापक महेन्द्र नायक सहित 19 अध्यापकों को शॉल श्रीफल देकर सम्मानित किया। 

इस शौर्य दिवस एवं सम्मान समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में आजाद अध्यापक संघ के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष एस के शिवहरे उपस्थित थे। श्री शिवहरे ने अध्यापकों को संबोधित करते हुये कहा कि संघ घोषणा पत्र में शामिल 1994 वाले शिक्षा विभाग की मांग को लेकर शीघ्र ही मुख्यमंत्री से मुलाकात करेगा। उसके बाद संगठन की ठोस रणनीति बनाई जायेगी। 

साथ ही शिक्षा के गुणवत्ता सुधार एवं अनुकम्पा नियुक्ति के विषय पर भी कार्य करने के संकेत दिये। इस शौर्य दिवस एवं सम्मान समारोह में विशेष अतिथि के रूप में अध्यापक संविदा शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष राजकुमार सरैया एवं विपिन पचौरी कार्यवाहक जिलाध्यक्ष उपस्थित थे।

इस कार्यक्रम के दौरान मंच पर आजाद अध्यापक संघ के प्रदेश सह सचिव मोहन शुक्ला एवं संभागीय प्रतिनिधि तनुजा गर्ग एवं जिला संयोजक केपी जैन, एनएमओपीएस के मनमोहन जाटव, संभागीय अध्यक्ष अरविन्द सरैया, जनक सिंह रावत आदि मंचासीन थे। मंच का संचालन संभागीय प्रवक्ता प्रदीप अवस्थी ने किया। स्वल्पाहार के साथ कार्यक्रम का समापन किया गया। 

इस कार्यक्रम में प्रमुखरूप से नंदकिशोर पांडेय, कपिल पचौरी, दिलीप त्रिवेदी, राजविहारी शर्मा, दिनेश धाकड़, कमल सिंह कलावत, मधूसूदन सिंघल, महावीर मुदगल, मनोज धाकड़, सतीष वर्मा, हरीसिंह, अमरसिंह जाटव, सत्येन्द्र दुवे, गजेन्द्र सिंह, वल्लभ आदिवासी, अविनीश मिश्रा, महेन्द्र नायक, रामेश्वर, कुलदीप, राजेश खत्री, नरेश भार्गव, अमित गुप्ता, जितेन्द्र शर्मा, नरेन्द्र श्रीवास्तव, रामलखन गुर्जर, गोपाल श्रीवास्तव, केदार वर्मा, राजेन्द्र सिंह, भरत पाल, होतम जाटव, रवि धाकड़, इन्दर जाटव, समद अलि, संजय रावत, देवेन्द्र परिहार, संतोश यादव, वल्लभ जाटव, अशोक जाटव, जगदीश बाथम आदि उपस्थित थे।