शहर में कोल्ड का वार, बदला स्कूलो का टाईम, ठंड के कारण आ रहे हैं ब्रेन अटैक | SHIVPURI NEWS

शिवपुरी। इस समय शिवपुरी जिले को शीत लहर ने अपनी चपेट में ले लिया है।उत्तर दिशा से बहकर शीत हवा ने शहर को कांपा देने के लिए मजबूर कर दिया हैं। आसमान में बदलो ने कब्जा कर लिया हैं इस कारण सूर्यदेव भी अपनी गर्मी नही दिखा पा रहे हैं।  

शीतलहर व सर्दी बढ़ने की आशंका को देखते हुए कलेक्टर ने 9 जनवरी से शीत लहर कम न होने तक जिले के सभी शासकीय,निजी, MP BOARD, CBSE, ICSE बोर्ड के स्कूलों का संचालन सुबह 9 बजे से करने के निर्देश जारी किए है।कलेक्टर के इस कदम से बच्चों को सर्दी से राहत मिलेगी। 

सोमवार की तुलना में मंगलवार को दिन और रात का तापमान लगभग स्थिर रहा, लेकिन सुबह से आसमान में छाई धुंध व बादलों के साथ पहाड़ी क्षेत्रों से 10 किमी औसत प्रति घंटा की रफ्तार से आ रहीं हवाओं ने लोगों को कांपने के लिए परेशान कर दिया। चूंकि इन दिनों धूप बहुत कम समय के लिए निकल रही है। 

वह भी कमजोर होने से लोगों दिन रात सर्दी का अहसास हो रहा है। आने वाले दिनों में मौसम के जानकार बूंदाबांदी या बारिश की आशंका भी जता रहे हैं। ऐसे में आने वाले दिनों में सर्दी का असर और बढ़ने की आशंका है। 

जब तक शीतलहर कम नहीं टाइम यही चलेगा : जिला शिक्षा अधिकारी आर बी सिंडोस्कर ने बताया कि जिले में जब तक शीतलहर का प्रकोप जारी रहेगा।तब तक स्कूलों के समय में कोई भी तब्दीली नहीं होगी।चाहे स्कूल सरकारी हों या निजी। सभी स्कूलों में समय सुबह 9 बजे से ही रहेगा। और इस समय सीमा का सभी को पालन करना होगा। जो भी नियमों का उल्लंघन करेगा उसके खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी। 

ग्वालियर। अंचल में ठंड का मौसम अब जानलेवा हो गया है। सुबह 4 से 6 बजे के बीच लोग ब्रेन अटैक का शिकार हो रहे हैं। इनमें से 14% लोगों की मौत हो रहीं हैं जबकि शेष लाखों रुपए खर्च करके जान बचा पा रहे हैं। केवल जयारोग्य चिकित्सालय में 6 दिन में न्यूरोलॉजी विभाग और मेट्रो न्यूरो हॉस्पिटल में अकेले ब्रेन अटैक के ही 75 मरीज पहुंचे। इनमें से 10 की मौत हो गई। बता दें कि ब्रेन अटैक के मामलों में प्राइवेट अस्पतालों का आंकड़ा इससे काफी ज्यादा है। 

Comments

Popular posts from this blog

Antibiotic resistancerising in Helicobacter strains from Karnataka

जानिए कौन हैं शिवपुरी की नई कलेक्टर अनुग्रह पी | Shivpuri News

शिवपरी में पिछले 100 वर्षो से संचालित है रेडलाईट एरिया