Ad Code

200 क्विटंल आटा,125 क्विटंल गुड के मालपुए और 60 गांव का दूध लग जाता हैं इस महाविशाल भंडारे में | SHIVPURI NEWS

शिवपुरी। शहर से 15 किमी दूर एबी रोड के किनारे स्थित खैरे वाले हनुमान मंदिर संत भैरोदास आश्रम सतनवाडा पर रविवार को विशाल भंडारे का आयोजन किया गया। यह 6 जनवरी से हर साल की तरह रासलीला और राम नाम महायज्ञ का आयोजन किया गया था। इसकी पूूर्णाहुति यज्ञ और भंडारे के साथ हुई।

आयोजको ने बताया कि 60 से अधिक गांव और शहर से सैकडो लोग इस भंडारे में शामिल होते हैं। सुबह से भंडारे के दिन ही फूल ही होली खेली जाती हैं। रासलीला के समापन करने के बाद भंडारे की शुरूवात हो जाती हैं। विशाल भंडारे को तैयार करने के लिस मुरैरा से 150 लोगो की टीम आती हैं।

एक दिन पूर्व से ही मालपूए बनाना शुरू कर देते हैं। रविवार सुबह से आलू की सब्जी तैयार की गई ओर पूडी बनाने के साथ भंडारा शुरू हुआ तो दूसरी ओर हर साल की तरह 60 गांव के दूधियो ने नियमित सप्लाई रोककर भंडारे में आहुति दी ओर अपने-अपने कढाहे लेकर आश्रम पहुंचे यहां अपने ही हाथो से हजारो लीटर दूध की खीर बनाई। 

खीर को ट्रोलियों में भरा गया। यह ट्रेक्टर ट्रॉली खुद दूधिए और ग्रामीण आश्रम लेकर आते हैं,जिसकी पहले धुलाई और सफाई की जाती हैं। इसके बाद ट्रॉली में पॉलीथिन बिछाकर उसमें खीर और मालपुए रखे जाते हैं। 

वही कुद ट्रॉलियों में पूडी भी रखी जाती रहती हैं। भंडारे में जनसाधारण को आमत्रिंत किया जाता हैं,और बिना किसी भेदभाव के यहां भंडारा होता हैं। यह काम भी अपने-अपने हिसाब से ग्रामीणो तय किया। परसने के लिए अलग—अलग गांवो से टीम आती है। बताया जा रहा है कि इस विशाल भंडारे में 1 लाख लोगो ने भंडारा ग्रहण किया। 

इस भंडारे में 200 क्विटंल आटा लग जाता है।हर साल आयोजक मालपूए का आटा गूथने के लिए नई मशीन का इस्तेमाल करते हैं,वैसे इस मशीन का वास्तिवक काम है सीमेंट,गिटटी और रेत मिश्रण तैयार करना। इन मालपूओ मे लगभग 150 क्विटंल गुड का इस्तेमाल किया जाता है और 200 किलो घी के प्रयोग होने का अनुमान हैं।