प्रीतम लोधी की जीत पर 1 करोड़ का सट्टा लगाने तैयार है गिरवर लोधी | SHIVPURI NEWS

शिवपुरी। पिछोर विधानसभा क्षेत्र से 1993 से लगातार जीत रहे पूर्व मंत्री और विधायक केपी सिंह की हार तथा भाजपा प्रत्याशी प्रीतम लोधी की जीत पर ग्राम खरई निवासी गिरवर लोधी 1 करोड का सट्टा लगाने को तैयार है। गिरवर लोधी ने फेसबुक के जरिए सभी को चैलेंज दिया है और कहा है कि या तो महल वाला रहूंगा या रोड़ वाला। श्री लोधी ने कहा कि उनसे शर्त लगाने वाला उनसे उनके मोबाइल नम्बर 8435861697। जब श्री लोधी को बताया गया कि उनका प्रस्ताव अवैधानिक है और उनके विरूद्ध कानूनी कार्रवाई हो सकती है तो बिना किसी डर के गिरवर लोधी ने कहा कि वह वैसे ही अपनी जिंदगी से तंग आ चुका है और जेल जाने को तैयार है। वहां कम से कम आराम से 6 रोटी और दाल तो मिलेगी। 

श्री लोधी से पूछा गया कि उन्हें केपी सिंह की हार पर इतना विश्वास क्यों हैं, तो उनका जबाव है कि 15 साल से वह विपक्ष के विधायक हैं और पिछोर में विकास के कोई काम नहीं हुए। जब वह कांग्रेस के विधायक थे और कांग्रेस सत्ता में थी तब भी जो विकास के कार्य उन्हें कराने थे नहीं कराए। पिछोर में भूखमरी है और 500 से अधिक लोग एक समय की रोटी के लिए भी तरसते हैं। विधायक के नाते उनका फर्ज था कि वह उनके  लिए भंडारा या अन्नकूट जैसा कोई कार्यक्रम कराते। जब श्री लोधी से पूछा गया कि केपी सिंह 1993 से लगातार जीत रहे हैं, इस बार कैसे हार जाएंगे तो उनका जबाव है कि यह जनता भरत की नहीं हुई तो केपी सिंह की कैसे होगी। इस संवाददाता ने गिरवर लोधी से पूछा कि शर्त क्या वह नगद पैसे रखकर लगाएंगे तो उन्होंने कहा कि मेरे पास पैसे कहां हैं।

पिता ने जोडक़र 50 लाख रखे थे वह सब खर्च हो गए हैं। पत्नी संविदा शिक्षक थी और 2013 में उसकी मृत्यु हो गई। भगवान किसी का पति और किसी की पत्नी को कभी न मारे। ऐसे जीवन से मौत अच्छी है। उनके तीन बच्चे हैें किस तरह से वह उनका भरण पोषण कर रहे हैं यह वह ही जानते हैं। इसलिए मैने इस बार सोच लिया कि शर्त लगाकर या तो इस पार या उस पार। नगद पैसे तो है नहीं है। मेरे पास 50 बीघा जमीन है जिसका मूल्य कम से कम 1 करोड़ होना चाहिए। मैं उस जमीन की लिखा पढी करने को तैयार हूं। 
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics