Ad Code

Responsive Advertisement

हाईवोल्टेज ड्रामा:अस्पताल में अवैध बसूली को लेकर हंगामा,झोलाछाप डॉक्टर की जमकर कुटाई,FIR

शिवपुरी। खबर जिले के कोलारस उपस्वास्थ्य केन्द्र से आ रही है। जहां आज अवैध बसूली को लेकर डॉक्टर विवेक शर्मा और एक झोलाछाप डॉक्टर के बीच जमकर हंगामा हुआ। कोलारस उपस्वास्थ्य केन्द्र में लगभग 2 घण्टे तक चले इस हाईवोल्टेज डामें में  चिकित्सालय में पदस्थ डॉक्टर और उसके गुर्गो ने लगभग आधे घण्टे तक झोलाछाप डॉक्टर को कमरे में बंद कर कुटाई की। 

इस मामले की शिकायत करने झोलाछाप डॉक्टर कोलारस थाने में पहुंचे। जहां झोलाछाप डॉक्टर के पहुंचने के तुरंत बाद डॉक्टर पहुंच गए और झोलाछाप पर शासकीय कार्य में बाधा की शिकायत दर्ज कराने की मांग करने लगे।

जानकारी के अनुसार कोलारस कस्बे में स्थिति झोलाछाप डॉक्टर मुनेश बाथम को बीएमओ कार्यालय से नोटिस जारी किया गया था। इस नोटिस के बाद 2 माह बाद आज झोलाछाप डॉक्टर मुनेश चिकित्सालय पहुंचा और बीएमओ अल्का त्रिवेदी से मिलने की जिद करने लगा। प्रत्यक्षदर्शीयों ने बताया है कि झोलाछाप लगातार डॉक्टर विवेक शर्मा से अल्का त्रिवेदी मिलने की जिद करने लगा। 

बताया गया है कि इस क्षेत्र में कोई भी लेन देन और बीएमओ के कार्य को डॉक्टर विवेक शर्मा ही अंजाम देता है। जिसपर आज डॉक्टर विवेक शर्मा ने झोलाछाप की उससे बात करने की कहा। झोलाछाप मुनेश का आरोप है कि बीते 2 माह पूर्व उसके खिलाफ एक खबर प्राकाशित होने के चलते उससे 10 हजार रूपए की मांग की जा रही थी। 

मुनेश ने बताया कि सभी झोलाछाप डॉक्टरों से 4 हजार रूपए लिए जाते है तो फिर उससे 10 हजार क्यों मांगे जा रहे है। इस संबंध में वह चर्चा करने अल्का त्रिवेदी के पास पहुंचा था। जिसपर डॉक्टर विवेक शर्मा ने उसे बीएमओ से नहीं मिलने दिया। प्रत्यक्षदर्शी मरीजों ने बताया है कि इसी बात को लेकर डॉक्टर विवेक तिवारी और झोलाछाप का मूंह बाद हो गया। 

यह मुंहबाद इतना बढ गया कि झोलाछाप ने सरेआम गोली मारने की धमकी दे डाली। गोली मारने की धमकी देने से विवेक शर्मा ने अपने गुर्गो को आदेश दे दिया और झोलाछाप डॉक्टर को कमरे में बंद कर लगभग आधा घण्टे तक जमकर मारपीट कर दी। इस मामले की शिकायत करने पीडित कोलारस थाने पहुंचा। जहां पीडित ने डॉक्टर विवेक शर्मा और उसके साथीयेां पर मारपीट का आरोप लगाया। 

यह आरोप लगा ही रहा था तभी बीएमओ अल्का त्रिवेदी अपने स्टाफ के साथ कोलारस थाने में पहुंची और झोलाछाप डॉक्टर पर शासकीय कार्य में बाधा देने की शिकायत दर्ज कराई। इस मामले में पुलिस ने बीएमओ अल्का त्रिवेदी की शिकायत पर आरोपी झोलाछाप के मुनेश के खिलाफ धारा 353,223,294,506,427 के तहत मामला दर्ज कर विवेचना में ले लिया है।