अध्यापकों की दिवाली गिफ्ट: वेतन में से हो सकती है 8 करोड की वसूली | Shivpuri News

शिवपुरी। जिले में अध्यापकों का वेतन निर्धारण गलत हो जाने के कारण पूरे जिले के अध्यापको के वेतन में से जिले के अध्यापको से लगभग 8 करोड की वसूली का अनुमान है। अभी यह गडबडी संकुल केंद्र पिछोर में पकड में आई है। 

जानकारी के अनुसर पिछोर सकुंल के  105 अध्यापकों से 25 लाख रुपए से ज्यादा की राशि वसूली योग्य बताई जा रही है। संकुल प्राचार्य का कहना है कि यह वेतन निर्धारण अकेले पिछोर ही नहीं, बल्कि जिले के दूसरे संकुल में भी हुआ है। शासन से प्राप्त दिशा-निर्देशों के आधार पर ही वेतन निर्धारण किया गया है। पूरे पिछोर ब्लॉक की बात करें तो एक करोड़ से ज्यादा की वसूली की कार्रवाई होना है। जांच होने पर पूरे जिले में छह से आठ करोड़ रुपए की वसूली निकल सकती है। 

बता दें कि छठवां वेतनमान साल 2016 से लागू हुआ था। वेतनमान लागू होने के बाद वेतन निर्धारण ठीक नहीं हो सका। शुरूआती दौर में निर्धारित से कम वेतन मिलने से अध्यापक संवर्ग को एरियर राशि सहित भुगतान करना था। इसी बीच वेतन फिक्सेशन कर दिया गया जिसका भुगतान होता रहा। एरियर राशि का भुगतान तीन किश्तों में देने की स्थिति आई और मिल चुके वेतन से तुलना की गई, इसी बीच अध्यापकों को अधिक वेतन मिलने की स्थिति का पता चला है। 

कम वेतन मिलने से विभाग पर ऐसे निकली एरियर राशि 
अध्यापकों को 1 जनवरी 2016 से 29 हजार 433 रुपए वेतन मिलता था। नया वेतनमान लागू होने पर 36990 रुपए मिलना थे, लेकिन 29433 रुपए वेतन मिला। जनवरी व फरवरी का एरियर 7557 रुपए का बना। मार्च 2016 से चार माह तक 32 हजार 33 रुपए मिले, जिसका एरियर 4957 रुपए बना। जुलाई 2016 से तीन माह तक 29301 रुपए वेतन मिला जिसका एरियर 6515 रुपए बना। अक्टूबर 2016 में वेतनवृद्धि लगी। वेतन 39301 हुआ और मिले 33552 रुपए। एक माह का एरियर 5449 बना।
  
अध्यापक संवर्ग को ऐसे हुआ ज्यादा वेतन का भुगतान 
1 नवंबर 2016 से नया वेतनमान तय कर भुगतान शुरू कर दिया। वेतन 39301 मिलना था लेकिन दिया 41041 रुपए। दो माह तक 1740 रुपए का ज्यादा भुगतान हुआ। 1 जनवरी 2017 से 39978 रुपए की जगह 41448 रुपए वेतन छह माह तक दिया। छह माह तक 1470 रुपए का ज्यादा भुगतान हुआ। 1 जुलाई से सितंबर 2017 तक 41706 वेतन की जगह 42279 रुपए दिए। 573 रुपए तीन महीन ज्यादा मिले। अक्टूबर 2017 से 41706 की जगह 43546 रुपए वेतन दिया और 1840 रुपए तीन महीने तक ज्यादा मिले। 1 जनवरी 2018 से छह माह तक 42229 के स्थान पर 44092 रुपए वेतन दिया 1863 रुपए छह माह तक ज्यादा मिले। 1 जुलाई से 31 अगस्त 2018 तक 43512 के स्थान पर 45423 रुपए वेतन दिया। 1911 रुपए दो महीने तक ज्यादा मिले। 

दूसरे संकुल केंद्रों में भी इसी तरह वेतन निर्धारण हुआ 
जिन अध्यापकों को ज्यादा वेतन मिला है, उनसे राशि की वसूली की जाएगी। एरियर राशि के साथ समायोजन हो जाएगा। यह समस्या सिर्फ हमारे संकुल की नहीं है, जिले के दूसरे संकुल में भी इसी तरह वेतन निर्धारण रहा है। 
बृजेश नीखरा, संकुल प्राचार्य, संकुल केंद्र शासकीय उत्कृष्ट स्कूल पिछोर 
                               
वसूली की जाएगी 
यदि सभी संकुल केंद्रों पर वेतन निर्धारण गलत हुआ है और अध्यापक संवर्ग को ज्यादा वेतन का भुगतान होने की स्थिति में वसूली की कार्रवाई की जाएगी। मामले का पता लगाकर निर्देश जारी करेंगे। आरबी सिंडोस्कर, डिप्टी कलेक्टर एवं प्रभारी डीईओ शिवपुरी 

Comments

Popular posts from this blog

Antibiotic resistancerising in Helicobacter strains from Karnataka

जानिए कौन हैं शिवपुरी की नई कलेक्टर अनुग्रह पी | Shivpuri News

शिवपरी में पिछले 100 वर्षो से संचालित है रेडलाईट एरिया