पंचायत ने हादसे को हत्या माना, सुनाई सजा, पूरी नहीं की तो बहिष्कार | KARERA NEWS

करैरा। करैरा से अपने गांव सिरसौद लौटते समय एक युवक की बाइक फोरलेन पर गाय से टकरा गई। दुर्घटना में गाय की मौके पर ही मौत हो गई। युवक ने पहले चार दिन तक इस मामले को लोगों से छिपाया रखा और फिर उसे ग्रामीणों को बताया दिया। इस बात की खबर पूरे गांव में फैल गई। युवक पर गो हत्या का आरोप लगा।इसके बाद पंचायत बुलाई गई और पंचों ने फरमान सुनाते हुए युवक को सजा दी कि पहले पूर्वजों के चबूतरा पर अखंड रामायण पाठ कराओ, फिर पूरे गांव की कन्याओं के लिए सामूहिक भोज कराओ और चार दिन घटना की छुपाने की सजा बतौर गरीब महादेव मंदिर पर दो किग्रा वजनी पीतल का घंटा चढ़ाओ।

ऐसा नहीं करने पर युवक को गांव व समाज से बहिष्कार कर दिया जाएगा। यह मामला आदर्श ग्राम सिरसौद का है। युवक और उसका परिवार पंचायत के इस फरमान को पूरा करने में जुट गया है। युवक का कहना है कि यदि उन्होंने ऐसा नहीं किया तो गांव वाले उनसे कोई सरोकार नहीं रखेंगे। 

जानकारी के मुताबिक ग्राम सिरसौद के खूबतपुरा में रहने वाले साहब सिंह उम्र 35 वर्ष पुत्र राम सिंह पाल अपने गांव सिरसौद से करैरा के लिए जा रहा था। तभी फोरलेन पर कलोथरा के पास सडक़ पर जा रही एक गाय से उसकी बाइक टकरा गई। जिससे गाय की मौके पर ही मौत हो गई। 

युवक ने पहले तो इस घटना को लोगों से छुपाने का प्रयास किया। लेकिन कहीं से यह बात ग्रामीणों तक पहुंच गई और ग्रामीणों ने पंचायत बुला ली। पंचायत ने साहब सिंह पाल को फरमान सुनाते हुए कहा कि जब तक पंचों द्वारा तय किए दंड को परिवार पूरा नहीं करता तब तक पूरा गांव इस परिवार का बहिष्कार करेगा। पंचायत द्वारा लगाया गया दंड पूरा नहीं करने तक गांव का कोई भी व्यक्ति न तो इन लोगों से बात करेंगा न ही इनके घर आएगा-जाएगा। 
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics