सुल्तानगढ़ हादसा: मूक बनकर देख रहा था प्रशासन, 3 युवा जलसैलाब में कूदे, 40 जिंदगियां बचा लाए | SHIVPURI NEWS

घटना स्थल सुल्तानगढ़ से सत्येंद्र उपाध्याय। सुल्तानगढ़ वाटरफॉल में अचानक आई बाढ़ के मामले में प्रशासनिक लापरवाही सामने आई। सेना का रेस्क्यू आॅपरेशन काफी देर से शुरू हुआ और इसके चलते 40 लोग बाढ़ के पानी में फंसे रह गए। अंधेरा हो जाने के कारण रेस्क्यू आॅपरेशन बंद कर दिए गए थे। सारी सरकार सुबह होने का इंतजार कर रही थी कि तभी मोहन के 3 ग्रामीण जवान आए और मौत बनकर दौड़ रहे बाढ़ के पानी को चीरते हुए ना केवल बाढ़ में फंसे हुए 40 लोगों तक पहुंच गए बल्कि सभी को सुरक्षित बाहर भी निकाल लाए। 

सेना का हेलीकॉप्टर केवल 6 लोगों को बचा पाया
कल शाम से सुल्तानगढ के वाटर फॉल में अचानक आई बाढ के कारण चट्टान पर 46 सैलानी फंस गए थे। रेस्क्यू के लिए हैलीकॉप्टर बुलाया गया। हैलीकॉप्टर ने 6 लोगों को सुरक्षित बहार निकाल लिया लेकिन अंधेरो होने के कारण हैलीकॉप्टर ने फिर उडान नही भरी। जलसैलाब के बीच फंसे 40 लोगों की सांसे अटक गई थीं और पूरे प्रशासन की सांसे तेज हो गई थी। 

ये हैं सुल्तानगढ़ हादसे के हीरो

प्रशासन ने आधी रात तक पानी कम होने का इंतजार कर रहा था। 2 जिलों का पूरा प्रशासन और आईटीव्हीपी की रेस्क्यू टीम पानी कम और सुबह होने का इंतजार कर रहे थे। तभी मोहना के 3 युवा उठे और प्रशासन से बातचीत की हम बाढ़ में फंसे लोगों को निकाल सकते हैं। मोहना निवासी निजाम शाह, कल्ला बाथम और रामसेवक प्रजापति ने कहा कि हम यहां लोकल के हैं और हमे यह सूखी नदी देखी हैं। हम इन लोगों को निकाल सकते है आप अपने रेस्क्यू के संसाधन उपलब्ध करा दें, बताया जा रहा है इन तीनों युवाओं ने अपनी कमर से रस्सी बांधी और पहले से बंधी हुई रस्सी को पकडकर बाढ़ को चीरते हुए उस चट्टान तक जा पहुंचे जहां 40 लोग फंसे हुए थे। वहां बाढ़ में फंसे लोगों को हिम्मत दी और एक-एक कर चट्टान से किनारे तक ले आए। कुल मिलाकर रात भर में तमाम सरकारी संसाधन जो नहीं कर पाए, वो गांव के 3 जवानों ने कर दिखाया। अब सब कुशल है। 

ये लोग फंसे थे बाढ में जिन्हे बचा लिया गया
अतुल प्रेम सिंह राजपूत भोडापुर, रोबिन राजपूत हजीरा, कुलदिप रायकवार हजीरा, सोहिल अंसारी भौडापुर, अभिषेक वैश्य हजीरा, नंदू हजीरा, आयूष राजपूत हजीरा, और संस्कार हजीरा उक्त सभी दोस्त हैं। वहीं सीताराम पुत्र मेहरबान कुशवाह, उत्तम पुत्र मेहरबान कुशवाह और प्रंशात पुत्र रामअवतार कुशवाह सभी निवासी ग्वालियर सिंकदर कंपू। कुलदीप पुत्र रामअवतार पंछी नगर, अरूण पुत्र शिव सिंह जाटव, और कुशल पुत्र विजय सिह जाटव सभी निवासी ठाटीपुर ग्वालियर। 

महिन्द्रा कंपनी के कर्मचारी इरफान पुत्र अजीत खान गुडा-गुडी का नाका, नौशाद खान, मुस्ताक खांन ठाटीपुर, शादिक पुत्र इरसाद खान अबार पुरा, रामसेवक प्रजापति रजौदा,मनीष पुत्र हीरालाल अहिरवार नईसडक, चांद खान (हेलीकापटर में गया) जितेन्द्र परिहार टेकनपुर। 

सौरभ पुत्र सुरेश भदौरिया चार शहर का नाका, शैलेष पुत्र महेश तोमर चार शहर का नाका, अतुल महेश राजपूत बिरला नगर, अमित जगदीश ग्वालियर और शाहरूख खांन और तरूण, जगताप, अनिल, सहानी 

ये लोग अभी भी लापता हैं
विशाल चौहान पुत्र प्रदीप चौहान, लोकेन्द सिह भगवान सिह गिरवाई, अभिषेक पुत्र गब्बर गिरवाई, रवि कुशवाह उम्र 19 साल, ऋषीकांत पुत्र श्याम लाल कुशवाह शिंदे की छावनी। 
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics