PHE टेण्डर घोटाला: SE जांच करने आए, EE गायब, जाते ही OFFICE आ गए

शिवपुरी। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग शिवपुरी में सामने आए पाइप लाइन बिछाई टेण्डर घोटाला, सीवर में गड़बड़ी तथा सांसद निधि नलकूप खनन घोटाले को लेकर आज जाँच को आए ग्वालियर सम्भाग के अधीक्षण यंत्री एस.एल. चौधरी ने पीएचई कार्यालय का औचक निरीक्षण किया। आज जब अधीक्षण यंत्री ने यहाँ अपनी आमद दी तो उन्हें प्रभारी कार्यपालन यंत्री एस.एल. बाथम कार्यालय में नजर नहीं आए। श्री चौधरी ने फोन पर चर्चा करते हुए अपने आगमन का मंतव्य बताया और कहा कि उन्हें यहाँ टेण्डर में गड़बड़ी सहित कुछ अन्य अनियमितताओं की शिकायत मिली है जिसके चलते वे जाँच को आए हैं।

श्री चौधरी ने कुछ कार्यों की माप पुस्तिकायें और टेण्डर रजिस्टर आदि भी तलब किए मगर ईई के न होने के चलते उन्हें सम्बन्धित दस्तावेज उपलब्ध नहीं हो सके। यहाँ बता दें कि प्रभारी कार्यपालन यंत्री श्री बाथम के कार्यकाल में शिवपुरी में सांसद निधि से नलकूप खनन की टेण्डर प्रक्रिया में गड़बड़ी सामने आई है साथ ही सीवर परियोजना में बोनस भुगतान का मामला भी जाँच की जद में है और पिछले दिनों करौंदी सम्पवेल से फिजीकल सम्पवेल तक बिना टेण्डर के लाइन बिछाई का मामला भी जाँच की जद में है। 

इस 17 लाख 50 हजार रुपए के पाइप लाइन बिछाई कार्य को विभाग ने बिना टेण्डर के ही करा डाला और जब टेण्डर आमंत्रित किए गए तो इस टेण्डर प्रक्रिया में एक से अधिक फर्मों ने प्रतिभागिता की जिसके चलते यह टेण्डर प्रक्रिया ही बिना कोई कारण बताए प्रभारी ईई श्री बाथम ने निरस्त कर दी। इस मामले की शिकायत ईओडब्लू को भी हुई है और पिछले दिनों ईओडब्लू की टीम भी इस प्रकरण को लेकर प्रभारी ईई एवं नगर पालिका शिवपुरी के अधिकारियों से जवाब तलब कर चुकी है। 

आज अधीक्षण यंत्री श्री चौधरी इसी सिलसिले में शिवपुरी आए हुए थे, पीएचई में एसई ने तमाम अन्य दस्तावेज भी खंगाले। एसई श्री चौधरी का कहना है कि वे पुन: इस प्रकरण की जाँच के लिए शिवपुरी आयेंगे। पीएचई कार्यालय से जब एसई के चले जाने की खबर ईई तक पहुंची तो वे कार्यालय आ गए और उन्होंने साढ़े सात बजे तक कार्यालय खोले रखा जो नियम विरुद्ध है।
Share on Google Plus

About Yuva Bhaskar

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.

0 comments:

-----------

analytics