वोटरलिस्ट गडबड़ी: KOLARAS में मिले सबसे ज्यादा फर्जी वोटर, 28 हजार के नाम काटे

शिवपुरी। अभी हाल ही में कोलारस में हुए उपचुनाव के चलते फर्जी बोटर काण्ड की शिकायत पर तत्कालीन कलेक्टर तरूण राठी का शिवपुरी से तबादला कर दिया गया था। उनके बाद शिवपुरी की बागडोर संभालते ही कलेक्टर शिल्पा गुप्ता ने मतदाता सूची को गंभीरता से लेते हुए मतदाता सूचीयों में फर्जी मतदाताओं को बाहर करने का काम किया। जिसके चलते पूरे जिले भर में लगभग एक हजार मतदाताओं के नाम सूची से बाहर किए गए है। इसके साथ ही लगभग 40 हजार  के लगभग नए मतदाताओं के नाम सूची में जोड़े गए है। 

मतदाता सूची के द्वितीय विशेष संक्षिप्त पुर्नरीक्षण 2018 का कार्यक्रम 31 जुलाई 2018 से शुरू होकर 21 अगस्त 2018 तक संचालित होगा। संक्षिप्त पुर्नरीक्षण कार्यक्रम के दौरान ऐसे मतदाता जिनकी आयु 01 जनवरी 2018 को 18 वर्ष है या इससे अधिक आयु के है। उनके नाम जोडऩे की कार्यवाही की जाएगी। जबकि ऐसे मतदाता जिनकी मृत्यु हो की गई है या अन्य स्थानों पर चले गए है, उन मतदाताओं के नाम जोडऩे का कार्य होगा। 

कलेक्टर श्रीमती शिल्पा गुप्ता ने आज जिलाधीश कार्यालय के सभाकक्ष में मीडिया से रूवरू होते हुए पूरे मामले की जानकारी मीडिया को दी। इस जानकारी में कलेक्टर ने बताया कि आज उन्होंने मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों की स्टेडिंग कमेटी की बैठक ली। इस बैठक में उपजिला निर्वाचन अधिकारी संजीव जैन, विभिन्न राजनैतिक दलों के पदाधिकारीगण आदि उपस्थित थे। कलेक्टर श्रीमती शिल्पा गुप्ता ने बताया कि मतदाता सूची का पुनरीक्षण का कार्य बूथ लेवल अधिकारी (बीएलओ) द्वारा घर-घर जाकर किया गया है। उन्होंने बताया कि प्रत्येक मतदान केन्द्र पर एक बूथ लेवल अधिकारी तैनात है। यह अधिकारी प्रत्येक मतदान केन्द्र पर प्रात: 10.30 बजे से शाम 05.30 बजे तक उपस्थित होकर मतदाता सूची में नाम जोडऩे की कार्यवाही कर रहा है। इस कार्य की निगरानी हेतु राजनैतिक दलों के नियुक्त बीएलए आवश्यक रूप से मतदान केन्द्र पर करें।

उन्होंने बताया कि मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन 27 सितम्बर 2018 को किया जाएगा। इस कार्य में सहयोग देने हेतु सभी राजनैतिक दलों के पदाधिकारी भी बूथ लेवल एजेन्ट नियुक्त करें। उन्होंने उपस्थित राजनैतिक दलों के पदाधिकारियों से आग्रह किया कि ऐसे मतदाता जिनके नाम मतदाता सूची में नहीं है, उन्हें मतदाता सूची में अपना नाम जुड़वाने हेतु प्रेरित करें। बैठक में राजनैतिक दलों के पदाधिकारियों को मतदान केन्द्रों, मतदाताओं की सूची एवं अद्यतन पूरक सूची प्रदाय की गई। बैठक में उपनिर्वाचन अधिकारी श्री जैन ने बताया कि जिले में मतदान केन्द्रों का युक्तियुक्तकरण का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। 

जिले में 1545 मतदान केन्द्र है, 19 मतदान केन्द्र कम हुए है। जबकि पिछोर के हर्षपुर में एक मतदान केन्द्र की वृद्धि हुई है। इस प्रकार जिले की पांचों विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों में कुल 1527 मतदान केन्द्र है। उन्होंने बताया कि जिले में डोर टू डोर सर्वे के दौरान 50 हजार 603 मतदाताओं के नाम जोडऩे की कार्यवाही की गई। जबकि 1 लाख 4 हजार 16 मतदाताओं के नाम काटने की कार्यवाही की गई है। इस प्रकार जिले में कुल 11 लाख 22 हजार 995 मतदाता है। बैठक में बताया गया कि प्रत्येक मतदान केन्द्र में मतदाताओं को किसी प्रकार की आवागमन की परेशानी न हो, इसके लिए दो दरवाजों की व्यवस्था की गई है। इस दौरान जो आकड़ा मीडिया को उपलब्ध कराया उसमें सबसे ज्यादा कोलारस विधानसभा से 28 हजार 503 बोटरों को सूची से बाहर किया गया है। जबकि कोलारस विधानसभा में 10219 नए मतदाताओं के नाम जोड़े गए है। 

इसके साथ ही शिवपुरी विधानसभा क्षेत्र में 10200 के नए नाम मतदाता सूची में जोड़े है। जबकि 19446 नाम काटे गए है। इसी प्रकार पोहरी विधानसभा में 2852 मतदाताओं के नाम जोड़े गए है जबकि 19124 मतदाताओं के नाम काटने की कार्यवाही की है। करैरा विधानसभा में 12125 मतदाताओं के नए नाम जोड़े गए है जबकि 22630 नाम काटे गए है। वही पिछोर विधानसभा क्षेत्र में 9648 नए नाम जोडऩे की कार्यवाही हुई है और पिछोर विधानसभा से 14313 नाम काटे गए है।  जब इस संबंध में सांसद सिधिया की मांग की बात मीडिया ने कही तो कलेक्टर ने इस पर कोई भी प्रतिक्रिया देने से इंकार कर दिया। यहां बता दे कि कोलारस में हुए उपचुनाव के दौरान सांसद सिंधिया ने चुनाव आयोग से फर्जी मतदाताओं की शिकायत की थी। जिसपर चुनाव आयोग ने जांच की तो वह सत्य पाई गई। 
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics