शिवराज सरकार ने सभी वर्गो के साथ श्रमिकों के कल्याण के लिए संचालित की अनेकों योजनाएं: यशोधरा राजे

शिवपुरी। खेल एवं युवा कल्याण, धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश में रहने वाले हर वर्ग के साथ-साथ असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के कल्याण एवं उत्थान के लिए अनेकों योजनाएं संचालित की है। आज इन योजना के तहत असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के परिजनों को आयोजित कार्यक्रम में लाभांवित किया जा रहा है। 

श्रीमती सिंधिया आज शिवपुरी एवं पोहरी में मुख्यमंत्री जनकल्याण योजना (संबल) के तहत आयोजित कार्यक्रमों को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित कर रही थी। कार्यक्रम की अध्यक्षता पोहरी विधानसभा क्षेत्र के विधायक श्री प्रहलाद भारती ने की। श्रीमती सिंधिया ने इस दौरान असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के कल्याण के लिए संचालित विभिन्न योजनाओं के तहत हितग्राहियों को लाभांवित भी किया। 

कार्यक्रमों में कलेक्टर श्रीमती शिल्पा गुप्ता, पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार पाण्डे, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी राजेश जैन सहित जनप्रतिनिधि एवं अधिकारीगण और असंगठित क्षेत्र के श्रमिकगण आदि उपस्थित थे। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के टीव्ही के माध्यम से सीधे प्रसारित कार्यक्रम का उपस्थित लोगों ने लाभ लिया।

श्रीमती सिंधिया ने कार्यक्रमों को संबोधित करते हुए कहा कि आज का दिन श्रमिकों के लिए एक ऐतिहासिक दिन है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों के कल्याण एवं उत्थान के लिए अनेको योजनाए संचालित की है। जिले में 5 लाख से अधिक असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों का पंजीयन किया जा चुका है। 

जिन्हें विभिन्न योजनाओं के तहत लाभांवित किया जा रहा है। श्रीमती सिंधिया ने कहा कि पंजीकृत असंगठित श्रमिकों को अगले माह से 200 रूपए फ्लेट रेट पर विद्युत उपलब्ध कराई जाएगी। जिसके तहत वे एक पंखा, बल्ब, टीव्ही चलाने के साथ मोबाइल चार्ज कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि ई-रिक्शा हाथ ठेला चलाने वालों को ई-लोडर हेतु अनुदान भी दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों एवं उनके परिवारों के सदस्यों को 2 लाख रूपए तक की नि:शुल्क इलाज की व्यवस्था की गई है। स्वरोजगार हेतु अनुदान भी दिया जाएगा। 

मुख्यमंत्री जनकल्याण अनुदान योजना के तहत पंजीकृत असंगठित श्रमिकों को उनके व्यवसाय के विस्तार हेतु उपकरण क्रय करने हेतु बैंक से ऋण प्रदाय किया जाएगा। ऋण का 10 प्रतिशत अथवा 5 हजार जो भी कम होगा अनुदान के रूप में दिया जाएगा। मुख्यमंत्री जनकल्याण(प्रसूति सहायता) योजना के तहत पंजीकृत महिला श्रमिक को गर्भावस्था के अंतिम तिमाही में प्रसवपूर्ण जांच कराने पर 4 हजार रूपए और प्रसव पश्चात पोष्टिक आहार के लिए 12 हजार रूपए की राशि प्रदाय की जाएगी। 

मुख्यमंत्री जनकल्याण अनुगृह राशि भुगतान योजना के तहत पंजीकृत असंगठित श्रमिक की दुर्घटना में मृत्यु होने पर 4 लाख रूपए की राशि, सामान्य मृत्यु होने पर 2 लाख रूपए की राशि, दुर्घटना स्थाई अपंग होने पर 2 लाख तथा आंशिक स्थाई अपंग होने पर 1 लाख रूपए की राशि दी जाएगी। इन वर्गों के बच्चों को कक्षा 1 से लेकर पीएचडी तक की शिक्षा नि:शुल्क प्रदाय की जाएगी। व्यवसायिक पाठ्यक्रमों में प्रवेश हेतु तथा यूपीएससी, पीएससी और बैकिंग आदि प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए नि:शुल्क कोचिंग की सुविधा दी जाएगी।

श्रीमती सिंधिया ने कार्यक्रमों को संबोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 2022 तक आवास उपलब्ध कराए जाएगें इसी प्रकार उज्ज्वला योजना के तहत महिलाओं द्वारा चूल्हे पर खाना बनाने की परेशानी को महसूस करते हुए प्रधानमंत्री ने उज्ज्वला योजना शुरू की है। इस योजना से गैस कनेक्शन नि:शुल्क प्रदाय किए जा रहे है। अब महिलाओं को खाना बनाने में भी अधिक समय नहीं लगेगा। 

विधायक पोहरी प्रहलाद भारती ने पोहरी में आयोजित कार्यक्रमों को संबोधित करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री, केन्द्रीय मंत्री और खेल एवं युवा कल्याण मंत्री के प्रयासों से इस क्षेत्र का चहूमुखी विकास हुआ है। उन्होंने बताया कि बैराड़ में तहसील एवं मण्डी और 132 के.व्ही. का विद्युत सब स्टेशन स्थापित किया गया है। 

132 करोड़ की लागत से निर्मित 62 कि.मी. लम्बी पोहरी से मोहना सडक़ मार्ग को निर्माण कराया गया। उन्होंने बताया कि पोहरी में कॉलेज भवन, आईटीआई, खेल स्टेडियम, पोहरी महाविद्यालय में स्नातकोत्तर कक्षाए आदि शुरू की गई है। हाल ही में पोहरी को नगर पंचायत का दर्जा भी दिया गया है। बैराड़ में इण्डोर स्टेडियम का निर्माण किया गया है। शिवपुरी में कार्यक्रम का संचालक गिरीश मिश्रा ने किया।
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics