अब तात्या की मूर्ति हटाने के विरोध में आए सुभाष टोपे, निर्णय पर पुनर्विचार, सौपा ज्ञापन

शिवपुरी। अमर शहीद तात्याटोपे की प्रतिमा को तात्याटोपे पार्क में स्थानांतरित करने के निर्णय पर शासन और प्रशासन पुनर्विचार करने के लिए तैयार हो गया है। तब तक अमर शहीद तात्याटोपे की प्रतिमा वर्तमान में जिस स्थल पर प्रतिष्ठित है उसी स्थल पर लगी रहेगी। जिला योजना समिति की बैठक में यह निर्णय लिया गया था कि राजेश्वरी मार्ग के विकास के लिए सडक़ चौड़ीकरण हेतु वर्तमान स्थल पर लगी प्रतिमा पास ही स्थित तात्याटोपे पार्क में स्थानांतरित कर दी जाए, लेकिन प्रतिमा हटाए जाने को लेकर जो विवाद हुआ और प्रतिमा स्थानांतरण के विरोध में तात्याटोपे के प्रपोत्र सुभाष टोपे ने जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंपा। उसके बाद यह निर्णय लिया गया कि योजना समिति के प्रतिमा स्थानांतरण के निर्णय पर समिति की बैठक में पुन: विचार किया जाएगा। सूत्र बताते हैं कि इस संबंध में जिले के प्रभारी मंत्री रूस्तम सिंह और खेल एवं युवक कल्याण मंत्री तथा शिवपुरी विधायक यशोधरा राजे सिंधिया ने भी अपनी सहमति दे दी है। संकेत यह मिले हैं कि विरोध को देखते हुए तात्याटोपे प्रतिमा स्थल में बदलाव नहीं किया जाएगा। 

तात्याटोपे बलिदान स्थल को लेकर जो जनभावनाएं जुड़ी है उसकी अभिव्यक्ति 10 मई को तब हुई जब शहीद तात्याटोपे की प्रतिमा को रिपेयरिंग कराने का बहाना लेकर नगरपालिका अध्यक्ष मुन्नालाल कुशवाह हिटैची मशीन की सहायता से हटवा रहे थे। मजदूरों ने तात्याटोपे की प्रतिमा स्टैण्ड पर सब्बलों से प्रहार करना शुरू कर दिया था और वह जूते पहनकर प्रतिमा का अनादर कर रहे थे। 

संयोग से उसी समय कांग्रेस पार्षद आकाश शर्मा वहां से गुजरे और प्रतिमा के साथ हो रहे अमानवीय व्यवहार को देखकर वह कुपित हो उठे और उनके उग्र तेवर को देखकर प्रतिमा वहां से हटाई नहीं जा सकी और इसके बाद शहर के अनेक लोग तात्याटोपे के सम्मान में मैदान में आ गए। शहर के युवाओं ने प्रशासन को ज्ञापन सौंपा और अल्टीमेटम दिया कि यदि प्रतिमा स्थल से छेड़छाड़ की गई तो उग्र आंदोलन किया जाएगा, लेकिन इस मामले में निर्णायक मोड़ तब आया जब अमर शहीद तात्याटोपे के प्रपोत्र सुभाष टोपे ने मंगलवार को एक ज्ञापन सह आपत्ति पत्र जिला प्रशासन को सौंपा। 

आपत्ति भी और अल्टीमेटम भी 
ज्ञापन में शहीद तात्याटोपे के प्रपोत्र सुभाष टोपे ने इस बात पर हर्ष व्यक्त किया कि अमृत योजना से 70 लाख 62 हजार की राशि से तात्याटोपे बलिदान स्थली को विकसित किया जा रहा है, लेकिन दु:ख यह व्यक्त किया गया कि कार्ययोजना में शासकीय विचार के अलावा अन्य संस्था या वीर तात्याटोपे के परिजनों के सुझाव नहीं लिए गए। ज्ञापन में तात्याटोपे बलिदान स्थली विकास संबंध में एक मानचित्र भी सौंपा गया है। 

यह भी कहा गया है कि महापुरूष का समाधि स्थल परिवर्तित करने से इसका ऐतिहासिक महत्व विदूषित होगा। केवल मार्ग के विकास के लिए राष्ट्रीय महत्व एवं धार्मिक आस्था के केंद्र का विनाश अनुचित है। ज्ञापन में यह भी कहा गया है कि तात्याटोपे की स्मृतियों को जीवित बनाए रखने के लिए शासन प्रशासन के साथ-साथ सामान्य संस्थाओं की अपेक्षओं पर भी ध्यान रखा जाना चाहिए। ज्ञापन में साफ तौर पर चेतावनी भी दी गई है कि यदि आपत्ति पर विचार नहीं किया गया तो न्यायालय की शरण में भी जाया जाएगा।

Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

-----------

analytics