बैराड़ में बैंक की स्वीकृति के एक साल बाद भी नहीं खुली एसबीआई की शाखा

बैराड़। नगर परिषद बैराड़ में राष्ट्रीयकृत भारतीय स्टेट बैंक की शाखा खोल जाने की मांग काफी वर्षों से स्थानीय गणमान्य नागरिकों कर्मचारियों व्यापारियों द्वारा की जा रही है। जिस पर भारतीय स्टेट बैंक उच्च प्रबंधन द्वारा बैराड़ में एसबीआई की शाखा खोलन जाने के लिए प्रमुख समाचार पत्रों में भवन किराए से लिए जाने की विज्ञप्ति प्रकाशित की जिसे 1 वर्ष से अधिक का समय हो गया है। बैंक प्रबंधक द्वारा कस्बे में कई भवनों में से एक भवन अपनी सुविधानुसार चयन भी किया। वहीं भवन मालिक से भवन के संबंध बैंक प्रबंधन द्वारा नवीन भवन बनाने का अनुबंध भी किया जा चुका है। 

नवीन भवन बैंक प्रबंधन के हिसाब से अनुबंधकर्ता द्वारा तैयार करा दिया गया है। इसके बाद भी 1 वर्ष से अधिक समय हो जाने के बाद भी नगर में बैंक की शाखा नहीं खुल पाई है। जिससे उपभोक्ता परेशान बने हुए हैं। बैराड़ में राष्ट्रीयकृत बैंक स्वीकृत होने के बाद भी नहीं खुल पा रही है नगर के व्यापारी सहित बैंक के अन्य उपभोक्ता परेशान बने हुए हैं। उनका कहना है कि बैंक खाते खोले जाने की प्रारंभिक कारवाई पूरी नहीं होन के कारण क्षेत्रीय बैंक उपभोक्ता व्यापारी कर्मचारी विद्यालय में छात्र-छात्राएं परेशान हो रह हैं। पेंशनर एसोसिएशन के अध्यक्ष राम भरोसी लाल गुप्ता का कहना है कि सबसे ज्यादा परेशानी भारतीय स्टेट बैंक की शाखा नहीं होन से से वो निवत्त कर्मचारियों को अपनी पेंशन लने में 24 किमी दूर पोहरी जाना पड़ रहा है। ऐस में  वृद्ध विकलांग एवं दिव्यांग पेंशन लने जाने में भारी परेशानी होती है। 

आधार को बैंक खाते से लिंक करवाने के लिए तय करनी पड़ती है 24 किमी की दूरी
नगर में राष्ट्रीयकृत बैंक नहीं खुलने से कई छोटे - छोटे कार्यों के लिए भी 24 किमी दूर पोहरी जाना पड़ता है ग्रामीणों को आधार कार्ड को बैंक खाते से लिंक करवाने के लिए पोहरी जाना पड़ता है ऐसे में नगर वासियों को बडी ही परेशानी का सामना करना पड़ रहा है साथ ही बैराड तहसील के ग्रामीणों कई छोटे - छोटे कार्यों के लिए भी बैराड से दूर जाना पड़ता है ऐसी स्थति में जल्द से जल्द राष्ट्रीयकृत बैंक का बैराड में खुलना अतिआवश्यक है जिससे कि क्षेत्र वासियों को राहत मिल सकती है। 

Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics