शिवपुरी मेडीकल कॉलेज में एमबीबीएस सीट आवंटन के लिए सांसद सिंधिया ने केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री को लिखी पाती

शिवपुरी। शिवपुरी-गुना सांसद एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने शिवपुरी मेडिकल कॉलेज को मेडिकल काउसिंल आफ इंडिया से सत्र 2018- 19 से 100 एमबीबीएस सीट की स्वीकृति प्रदान करने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा को पत्र लिखकर मांग की है। सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने पत्र में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से अनुरोध किया है कि मेरे संसदीय क्षेत्र में आपके मंत्रालय द्वारा स्वीकृत शिवपुरी मेडीकल कॉलेज को मेडीकल काउंसिल आफ इंडिया से सत्र 2018-19 से 100 एम बीबीएस  सीट की स्वीकृति हेतु म.प्र. शासन ने 24 जून 2017 को ऑनलाईन आवेदन किया था।  लेकिन इसमें जबलपुर मेडीकल यूनिवर्सिटी की तरफ से जारी संबंद्धता प्रमाण पत्र में त्रुटिबस संबंद्धता वर्ष 2018-19 के स्थान पर वर्ष 2017-18 अंकित हो गया था। 

जिसको संशोधित करके पुन: दिनांक 23 अक्टूबर 2017 को जमा करा दिया गया था, मगर तब तक आवेदन जमा करने की अंतिम तिथि 7 जुलाई 2017 निकल चुकी थी। जिसके कारण मेडीकल कालेज काउंसिल आफ इंडिया ने शिवपुरी कालेज को वर्ष 2018-19 सत्र से एम.बी.बी.एस पाठयक्रम प्रारंभ करने की अनुमति प्रदान नही की हैं।            

मेडीकल काउंसिल के अनुसार ज़रूरी सभी अर्हतायें शिवपुरी मेडीकल कालेज पूर्ण करता हैं, जिसके संबंधित कागजात संलग्न हैं।  सांसद सिंधिया ने पत्र लिखते हुए कहा है कि दिनांक 14 दिसंबर 2017 की बैठक मे लिये गये निर्णय पर पुर्नविचार किया जाये, क्योकि सभी दस्तावेज समयावधि में प्रेषित किये जा चुके हैं एवं विश्वविद्यालय की संबंद्धजा का प्रपत्र विलम्ब से नही वरन निर्धारित समय सीमा में ही प्रस्तुत किया गया था। संशोधित प्रपत्र के प्रेषित होने की तिथि को मूल प्रपत्र की तिथि नही माना जाये।            

सांसद श्री सिंधिया ने शिवपुरी एवं गुना संसदीय क्षेत्र के नागरिकों अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं दिलाने के लिए केद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से अनुरोध किया कि मेडिकल काउसिंल आफ इंडिया से शिवपुरी मेडिकल कालेज में सत्र 2018-19 से ही 100 सीटो पर एम.बी.बी.एस कोर्स प्रारम्भ कराने की अनुमति प्रदान की जाए।
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics