कोलारस में एसडीएम के प्रायवेट आदेश से संचालित है अवैध मैरिज गार्डन

इमरान अली/कोलारस। नगर में एक दर्जन से ज्यादा मैरिज गार्डन संचालित है प्रशासनिक दृष्टी से शायद एक भी खरा न उतर पाए कुछ मैरिज गार्डन तो कई वर्षो से नगर में संचालित है। लेकिन साल दर साल मैरीज गार्डन एक के बाद बढ़ते जा रहे है। आश्चर्य कि बात यह है कि कोलारस नगर परिषद में एक भी मैरेज गार्डन पंजीकृत नही है न ही नगर परिषद के पास किसी तरह के मैरिज गार्डनों कि सूची है। फिर भी दर्जनों मैरिज गार्डन मिली भगत से संचालित हो रहे है।

आरोप है कि उक्त मैरिज गार्डन एसडीएम के प्रायवेट आदेश पर शहर में संचालित है। इस आदेश का असर यह है कि आज दिनांक तक इन गार्डन संचालक पर कार्रवाई नहीं हुई। हांलाकि इस मामले को लेकर शहर के प्रतिष्ठित लोग लगातार एसडीएम से शिकायत कर रहे है परंतु आज तक कोई ने कार्यवाही तो दूर इन मैरिज गार्डन तक पहुंचने की भी प्रशासन हिमाकत नहीं जुटा पाया है। 

नगर में बीचो बीच बस स्टेंड के निकट फूलराज होटल, उत्सव वाटिका, कल्याण जी गार्डन, स्वागत गार्डन सहित आधा दर्जन मैरिज गार्डन संचालित है। इनमें से कई मैरिज गार्डन तो नेशनल हाईवे नं. 3 के किनारे संचालित हो रहे है यह गार्डन सालों से नगर में बेखौफ ढंग से संचालित है। 

जिसके पास न तो मूल सुविधाऐं मौजूद हैं, न ही गाडिय़ा रखने पार्किंग। सबसे बड़ी समस्या स्वागत गेट जो कि हाईवे से चंद कदम दूर है। आए दिन शादियों के मौके पर तमाम दर्जनों गाडिय़ां नेशनल हाईवे नं. 3 के किनारे दोनो तरफ गाडिय़ां पार्किंग कि जाती हैं जिससे नेशनल हाईवे दोनो और से गाडियो से घिर जाता है। जिसके चलते बस स्टेंड पर जाम जैसे स्थिती निर्मित हो जाती है। सबसे अधिक समस्या रात के समस्या आती है। 

चोरो के लिए सुलभ है मैरिज गार्डन 
बीते कुछ वर्षो में मैरिज गार्डनो में चोरी कि कई घटनाऐं सामने आई है। जहां से चोर आसानी से अपना काम कर भीड़ का सहारा लेकर निकल जाते है। इसके साथ ही मैरिज गार्डनो में पार्किंग कि व्यवस्था नही होने से सडक़ किनारे वाहन खड़े करने पड़ते है जिसके चलते चोर आसानी से वाहनो को चोरी कर फरार हो जाते है। और इसके साथ ही हाईवे किनारे वाहन खड़े होने से जान माल का खतरा लोगो के लिए बना रहता है। शासन के आदेश अनुसार अगर मैरिज गार्डनो में अगर चोकीदार और सीसीटीव्ही कैमरे लगा दिये जाऐ तो चोरी और अन्य घटनाओ पर अंकुश लगाया जा सकता है।

इनका कहना है-
यह मैरिज गार्डन मेरे आने से पूर्व से ही संचालित है। इसको लेकर मुझे किसी ने लिखित शिकायत नहीं की है। फिर भी आप बता रहे है तो मे इनको नोटिस जारी करता हूं। अब पर्सनल आदेश क्या होता है मुझे अगर एक भी शिकायत लिखित में मिलती तो में कार्यवाही करता फिर भी नोटिस के बाद देखते है अगर यह अवैध रूप से संचालित है तो कार्यवाही की जाएगी। 
आर एस प्रजापति,एसडीएम कोलारस
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics