एटीएम कांड: 3 दिन बाद भी पुलिस के हाथ खाली, नवरात्री का फायदा उठाया लूटेरों ने

शिवपुरी। कोलारस में एसबीआई के एबी रोड पर स्थित एटीएम को लूटने के प्रयास और आरक्षक को घायल कर बंदूक लूट कर ले जाने वाले लुटेरे अभी भी बेसुराग है। पुलिस के पास अभी तक कोई भी ठोस सबूत हाथ नही लगे है। इन लूटेरों ने मप्र के कई शहरों में एटीएम मशीनों से लूट की है। यह लूटेरे केवल एटीएम मशीनों को ही अपना निशाना बनाते है। 

जैसा कि विदित है कि 3 दिन पूर्व कोलारस के एसबीआई बैंक के एटीएम को कटर से काटकर लूटने का प्रयास किया, लेकिन कोलारस थाने के दो आरक्षक सुनील बंसल और अनिल बुनकर ने इन लूटेरों को एटीमए मशीन को काटते हुए देख लिया। दोनों आरक्षक तत्काल इन लूटेरों से भिड़ गए और लूटेरों ने आरक्षक के सर पर लोहे की रोड से हमला कर फरार हो गए। लूटी हुई आरक्षक की बंदूक पुलिस ने बरामद कर ली है। 

बताया जा रहा है कि इन लूटेरो जनवरी में देवास में भी एटीएम से लाखों रू की लूट की घटना को अंजाम दिया है। देवास पुलिस की क्राईम ब्रांच की एक टीम अभी शिवुपरी आई थी, वह भी अपने साथ कुछ फुटेज लेकर आई थी, जो इन लूटेरों से मिलते है। इसके आलावा छिंदवाडा की पुलिस को भी इन लूटेरों की तलाश है। अभी तक की पडताल से यह पता चलता है कि उक्त शतिर लूटेरे एटीएम मशीनों को ही अपना निशाना बनाते है। 

बताया जा रहा है कि एक सफेद कलर की सेंट्रो कार में बैठकर 4 की संख्या में बैठकर आए थे। चूंकि नवरात्री के दिन चल रहे थे ये अपनी कार में संगीत के इंस्ट्रूमेंट भी रखे थे। इन्ही इंस्ट्रूमेंट के बैगों में एटीएम काटने के हथियार औजार और कटर रखे थे। इन्ही कटरों से इस एटीएम को काटने का प्रयास किया था। 

इन लूटेरों ने इन एटीएम मशीन को एक दम तो निशाना नहीं बनाया होगा, इन लूटेरों ने जिले में कहीं-कहीं किसी होटल या लॉज में पनाह लेकर रेकी तो अवश्य की होगी। कि इस एटीएम  पर गार्ड है कि नही, लेकिन शिवपुरी पुलिस के द्वारा किसी भी होटल ओर लाज को खंगालने की खबर अभी तक नही आई है।

उक्त लूटेरे महाराष्ट्र के बताए जा रहे है। पुलिस ने बताया कि चोरों की लोकेशन मिली है जिस पर पुलिस पार्टी बनाकर गिरफ्तारी के लिए रवाना कर दिया है। जल्द ही लुटेरे पुलिस गिरफ्त में होंगे। 
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics