Ad Code

टूटी सांसद सिंधिया की गाईडलाईन: जिलाध्यक्ष के भाई भाजपा में शामिल, मनाने गए महेनद्र यादव को भगाया | Shivpuri News

शिवपुरी। खबर कांग्रेस में हडकंप मचाने वाली आ रही हैै, और कोलारस कांग्रेस के प्रत्याशी महेन्द्र यादव को दिल को छलनी करने वाली आ रही हैं। बातया जा रहा है कि जिला कांग्रेस के अध्यक्ष बैजनाथ सिंह यादव के छोटे भाई का अपने कुनवे सहित भाजपा में शामिल हो गए। और मानने गए कांग्रेस के प्रत्याशी महेन्द्र सिंह यादव को वहा से भगा दिया गया।

जानकारी के अनुसार आज कोलारस विधानसभा क्षेत्र में भाजपा प्रत्याशी वीरेन्द्र रघुवंशी के समर्थन में केन्दीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर का दौरा कार्यक्रम था। इस दौरान नरेन्द्र सिंह तोमर ने कोलारस में कार्यकर्ता संम्मेलन को संबोधित कर यादव समाज के कार्यक्रम में अलाबदी पहुंचे। यह कार्यक्रम कांग्रेस जिलाध्यक्ष और कांग्रेस के दिग्गज नेता बैजनाथ सिंह यादव के भाई शिवराज सिंह यादव के फार्म हाउस पर रखा गया था।

इस कार्यक्रम की सूचना जैसे ही महेन्द्र यादव को मिली वह यहां जा पहुंचे और अपने रूठे लोगों को मनाने जा पहुंचे। यहां पहुंचकर महेन्द्र यादव ने अपने समाज के लोगों को मनाने का भसरक प्रयास किया। परंतु वह सफल नहीं हो सके। यादव समाज के लोगों ने उन्हे यह कहकर रबाना कर दिया कि आपने समाज के लिए किया क्या है। उसके बाद कांग्रेसी विधायक वहां से चले आए। हांलाकि इस मामले की प्रतिक्रिया लेने के लिए कांग्रेस प्रबक्ता हरवीर रघुवंशी से बात की तो उन्होने अलाबदी में जाने की बात से इंकार कर दिया था बाद में स्वीकर किया हैं।

बताया गया है उसके बाद यहां केन्द्रीय मंत्री और कोलारस से भाजपा के प्रत्याशी बीरेन्द्र रघुवंशी पहुंचे। जिनका यादव समाज के लोगों ने जोरदार स्वागत किया। इसके साथ ही कांग्रेस जिलाध्यक्ष के भाई शिवराज सिंह यादव,भतीजे चंद्रपाल सिंह यादव सहित लगभग 2 सैकडा यादव समुदाय के लोगों ने भाजपा के प्रत्याशी के पक्ष में मतदान करने की शपथ ली। 

यहां बता दे कोलारस उपचुनाव में एक अलाबदी ही ऐसी पॉलिंग थी। जहां भाजपा का सूपडा साफ हुआ था। यहां से कांग्रेसी प्रत्याशी महेन्द्र सिंह यादव को 709 बोट मिले थे। जबकि भाजपा प्रत्याशी देवेन्द्र जैन को यहां महज 25 बोटों से संतोष करना पडा था। 

यह उल्लेख करना भी आवश्यक होगा कि अभी सांसद सिंधिया ने बॉम्बे कोठी पर कोलारस के दिग्गज कांग्रेसियों की बैठक इस लिया था कि कांग्रेस में क्लेश चल रहा है।लगातार कांग्रेसी भाजपा में शामिल हो रहे है। इस बैइक का मूल उददेश्य असतुंष्टो को मनाने का था और कहा गया कि किसी भी तरह महेन्द्र यादव की सीट निकलनी चाहिए। यहां सांसद सिंधिया की गाईड लाईन टूट गई और कांग्रेसी एक जुट नही है।