Ad Code

Responsive Advertisement

गौरव जिंदल का इंडियन इंजीनियरिंग सर्विसेज में चयन, बड़े भाई ने दिया जीत का मंत्र | Shivpuri News

शिवपुरी। शहर के गौरव जिंदल ने आईईएस (इंडियन इंजीनियरिंग सर्विसेज) परीक्षा में देशभर में 24वीं रैंक हासिल की है। गौरव का कहना है कि उनके बड़े भाई गोविंद जिंदल ने कहा था कि पैसा तो कोई भी कमा लेता है, पर काम ऐसा करो कि लोग आपको याद रखें। इसी से उन्हें प्रेरणा मिली और वे यह सफलता पा सके। गत वर्ष शहर के नमित जैन ने भी आईईएस परीक्षा में देश में पहली रैंक हासिल कर शिवपुरी का नाम रोशन किया था। 

आईईएस परीक्षा का रिजल्ट शुक्रवार देर शाम घोषित हुआ। इसमें पेशे से सेल्समैन राजेश जिंदल और किरण जिंदल के बेटे गौरव जिंदल ने 24वीं रैंक हासिल की। गौरव का कहना था कि उन्होंने विषम परिस्थितियों में पढ़ाई की। बड़े भाई गोविंद, मामा डॉ. हेमंत और दैनिक भास्कर ग्वालियर में पदस्थ वीरेंद्र की प्रेरणा उनको मिलती रही। उनकी प्रेरणा से ही वे यह सफलता प्राप्त कर सके। 

एनटीपीसी में नौकरी के दौरान ही की पढ़ाई  

गाैरव ने बताया कि बीई करने के बाद एनटीपीसी सिंगरौली में असिस्टेंट मैनेजर की नौकरी की। वहां तीन शिफ्ट में सुबह 7 से दोपहर 2 बजे तक और दोपहर 2 से रात 10 बजे तक और रात 10 बजे से सुबह 7 बजे तक की नौकरी हफ्ते में दो दिन के शेड्यूल में करते थे। सिर्फ एक दिन का अवकाश होता था। इसी नौकरी के साथ पढ़ाई की और सोशल साइट्स से दूरी बनाए रखी। फेसबुक उपयोग नहीं किया। वाट्सएप के उपयोग का समय तय कर लिया। लगातार अध्ययन से यह सफलता मिली है। अब आईएएस की तैयारी करूंगा। 

पिता ने कहा था- तुम्हें व्यापार नहीं करा सकता, अपने बलबूते खुद खड़ा होना है 

गौरव के अनुसार, उनके पिता ने कह दिया था तुम्हें व्यापार नहीं करा सकता। अपने बलबूते खुद खड़ा होना है। पिता सालभर में 1.5 लाख रुपए जैसे तैसे कमाकर घर का खर्च चलाते थे। अब बड़े भाई गोविंद इंडियन ऑइल कॉर्पोरेशन में असिस्टेंट मैनेजर हैं। मुझे भी 12 लाख साल के पैकेज पर सिंगरौली में नौकरी मिल गई। बहन मोनिका भोपाल से एमबीबीएस की पढ़ाई कर रही है। इसप्रकार अब सभी भाई-बहन सफल हो गए।