SI की आयोग में शिकायत, जांच, अब ढूंढे नहीं मिल रहे शिकायतकर्ता

शिवपुरी। खबर शिवपुरी जिले के पिछोर थाने से आ रही हैं,कि पिछोर थाने में पदस्थ एसआई अंशुल गुप्ता की शिकायत राज्य चुनाव आयोग में की गई।शिकायत के बाद पुलिस अधीक्षक ने एसडीओपी पिछोर से मामले की जांच कराई है। जांच में सामने आया कि भारतीय जनता पार्टी मंडल पिछोर के कार्यकर्ताओं ने यह शिकायत की है। 

लेकिन जब भाजपा मंडल अध्यक्ष विकास पाठक से बातचीत हुई तो उन्होंने अपने कार्यकर्ताओं द्वारा इस तरह की शिकायत से साफ इनकार किया है। शिकायती आवेदन में पिंकू, टिंकू, राहुल व सोनू आदि कार्यकर्ताओं के नामों का उल्लेख है। लेकिन पार्टी में इस नाम के कोई कार्यकर्ता नहीं है और न ही किसी कार्यकर्ता ने यह शिकायत की है। 

बताया जाता है कि एसआई को परेशान करने के उद्देश्य से शरारती तत्वों ने यह शिकायत की है। बताया जा रहा है कि एसआई ने एक सिपाही की गलत गतिविधियां पकड़ लीं और वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया। जिस पर उक्त सिपाही को लाइन अटैच कर लिया गया। जिससे कयास लगाए जा रहा हैं कि संबंधित सिपाही द्वारा ही एसआई गुप्ता के खिलाफ इस तरह की शिकायत आयोग में कराई गई है। अधिकारी भी इस बात को दबी जुबान से स्वीकार रहे हैं। लेकिन कोई तथ्य नहीं होने की वजह से स्पष्ट नाम नहीं बता पा रहे। 

एसआई गुप्ता ने तीन साल पिछोर में रहकर बीएससी की
चुनाव आयोग से प्राप्त शिकायत पर पुलिस अधीक्षक ने पिछोर एसडीओपी आरपी मिश्रा से जांच कराई है। शिकायत के आधार पर जांच में सामने आया है कि एसआई अंशुल गुप्ता पिछोर में रह चुके हैं। मूलतः उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं। लेकिन चुनाव के दौरान किसी पार्टी विशेष को फायदा पहुंचाने संबंधी बात सामने नहीं आ रही है। एसआई गुप्ता ने स्वीकारा है कि उन्होंने तीन साल पिछोर रहकर बीएससी की पढ़ाई पूरी की है। वह अपना दायित्व पूरी ईमानदारी व निष्ठा के साथ निभा रहे हैं। 

आयोग को जांच रिपोर्ट भेजी 
पिछोर थाने में पदस्थ एसआई के खिलाफ आयोग से शिकायती पत्र मिला था। एसडीओपी से माले की जांच कराई है। जांच में उनके मूल निवासी, पिछोर में रहकर पढ़ाई करने संबंधी बात सामने आई है। सारी जानकारी चुनाव आयोग को भेज दी है। 
राजेश हिंगणकर, एसपी शिवपुरी 
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics