महेंद्र सिंह विधायक निधि का हिसाब सामने रखें: सुरेंद्र शर्मा | kolaras

शिवपुरी। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य सुरेन्द्र शर्मा ने कोलारस के काँग्रेस विधायक महेंद्र सिंह यादव पर विधायक निधि के दुरुपयोग का आरोप लगाते हुये सोशल मीडिया पर एक खुला खत लिखा हैं, इस खत के माध्यम से कहा कि विधायक ने "अंधा बांटे रेबड़ी-चीन्ह चीन्ह के देय" की तर्ज पर केवल अपने रिश्तेदारों या ख़ास लोगों में बांट दी जबकि विधायक निधि पर क्षेत्र की जनता का समान अधिकार होता है।

सुरेन्द्र शर्मा ने कहा कि विधायक जी को जनता को बताना चाहिये कि उन्होंने विधायक निधि खतौरा, रामगढ़ एवं तुड़यावद के अलावा और किस किस ग्राम पंचायत को दी। सुरेन्द्र शर्मा ने कहा कि मेरा प्रवास कोलारस विधानसभा क्षेत्र के 250 से ज्यादा गाँवों में हुआ है लेकिन किसी भी गाँव में विधायक निधि से हुये कार्य दिखाई नहीं दिये, हो सकता है विधायक जी ने कुछ गाँवों को निधि दी हो लेकिन उसका उपयोग केवल विधायक जी के नजदीकी लोग या उनके रिश्तेदार कर रहे हैं जनता को उसका लाभ मिलता दिखाई नहीं देता।

सुरेन्द्र शर्मा ने कोलारस विधायक को चुनौती देते हुये कहा कि वह पत्रकार वार्ता बुलाकर जनता को बताएं कि उन्होंने अब तक कितनी-कितनी विधायक निधि किस किस कार्य हेतु दी और उसकी धरातल पर स्थिति क्या है अगर हैंडपम्प लगा है तो सार्वजनिक जगह पर लगा है या उनके किसी रिश्तेदार के घर के सामने लगा है इसका ज़वाब भी विधायक महोदय को जनता को देना चाहिये।

सुरेन्द्र शर्मा ने कोलारस विधायक को चेताबनी देते हुये कहा कि या तो वह स्वयं अपनी विधायक निधि के व्योरे को एक हफ़्ते के अंदर सार्वजनिक करें नहीं तो वह स्वयं सूचना के अधिकार के तहत जानकारी प्राप्त कर जनता को उसका ब्यौरा उसके भौतिक सत्यापन के साथ सार्वजनिक करेंगे।

अब इस खुले खत से कोलारस विधायक महेंन्द्र सिंह यादव किस तरह से लेते हैं,यादि बाकी उन्होने अपनी विधायक निधि में सभी गांवो को एक नजरिए से देखा हैं तो वह तत्काल अपनी विधायक निधि सार्वजनिक करेंगें। अगर चुन-चुन कर बांटी है तो वह इस खुला खत का जबाव नही देंगें। शिवपुरी समाचार डॉट कॉम को कोलारस विधायक के प्रेस नोट का इंतजार हैं। 
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics