लाश मिलने से पहले ही पुुलिस ने दबोच लिया था हत्या का आरोपी

शिवपुरी। खबर शहर के सिटी कोतवाली क्षेत्र के मनियर में आज सुबह एक मजदूर की नेपाल से आए एक युवक ने सिर पर ईंटें पटककर मौत के घाट उतार दिया। आरोपी ने उसकी गर्दन में एक लकड़ी से भी प्रहार किया था जो उसके गले में घुसी हुई मिली है। मौके पर पुलिस को ब्लेड भी पड़ी हुई मिली जिसे पुलिस ने जप्त कर लिया है। घटना के पीछे क्या कारण रहा इसका अभी कोई खुलासा नहीं हुआ है। हालांकि पुलिस ने हत्यारोपी महेन्द्र खत्री निवासी नेपाल को गिरफ्तार कर लिया है। हांलाकि पुलिस इस मामले में अभी कुछ भी बताने से इंकार कर रही है। जिस समय पुलिस ने आरोपी को दबौचा था। आरोपी नशे की हालात में था। पुलिस ने आरोपी को खून से रंगे हाथों के चलते पकडा था उस समय पुलिस को हत्या की सूचना भी नहीं मिली थी।

जानकारी के अनुसार सुबह करीब छह बजे रमेश पुत्र बिहारीलाल ओझा उम्र 45 वर्ष की लाश उसके घर के बाहर बाउण्ड्री के पास खून से लथपथ पड़ी हुई थी जिसे उसके पड़ोस में रहने वाले कालू कुशवाह ने देखा और मकान मालिक रघुवीर राठौर को रमेश की मौत की सूचना दी। इसके बाद मकान मालिक ने डायल 100 को घटना की जानकारी दी। सूचना पाकर पुलिस मौके पर पहुंची और छानबीन की। इसके बाद रमेश के शव पीएम हाउस भिजवा दिया। पुलिस को मौके से हत्या में प्रयुक्त की गई ईंट मिली है। 

साथ ही उसके गर्दन में फंसी हुई लकड़ी को भी बरामद कर लिया है। पुलिस ने आसपास के लोगों से पूछताछ की वहीं मृतक की पत्नी सरोज ओझा से भी जानकारी ली तो उसने बताया कि उसके पति प्रतिदिन सुबह करीब 4 बजे घर से शौच के लिए निकल जाते थे। आज सुबह भी वह घर से निकले, लेकिन नींद में होने के कारण उसे रमेश के जाने तक का पता नहीं लगा और सुबह उसे पड़ोसियों ने उसके पति की लाश पड़े होने की सूचना दी। 

पुलिस ने मकान मालिक रघुवीर राठौर से भी पूछताछ की तो उसने बताया कि रमेश बहुत ही सज्जन व्यक्ति था और उसका किसी से भी कोई विवाद नहीं था। पूछताछ के बाद पुलिस हत्यारोपी की तलाश में जुट गई और इसी दौरान पुलिस ने एक युवक महेन्द्र खत्री को गिरफ्तार कर लिया जिसके कपड़े और हाथ खून से सने हुए थे। पुलिस ने आरोपी से पूछताछ की, लेकिन वह अत्याधिक नशे में था जिस कारण वह कुछ भी नहीं बता रहा है। पुलिस का कहना है कि यह तो स्पष्ट है कि महेन्द्र ने ही रमेश की हत्या की है, लेकिन कारण उसके होश में आने के बाद ही स्पष्ट हो जाएंगे। 

संदिग्ध स्थिति में गिरफ्तार हुआ था हत्या आरोपी 
मनियर तिराहे पर रहने वाले रमेश ओझा की हत्या नशे में धुत्त चोरी के उद्देश्य से खड़े आरोपी महेन्द्र खत्री ने की थी। इस मामले में खास बात यह है कि पुलिस ने हत्यारोपी महेन्द्र को पहले गिरफ्तार किया। बाद में उसे हत्या का पता चला। 

हुआ यह कि आज सुबह लगभग चार बजे के आसपास आरोपी महेन्द्र खत्री महल के पीछे मेहता ट्रांसपोर्ट के पास अपने खून से रंगे हाथ धो रहा था। इसकी जानकारी सुृबह घूमने जाने वाले लोगों ने तत्काल पुलिस को दी और पुलिस ने आरोपी को हिरासत में ले लिया। उसके कपड़ों तथा घड़ी पर खून लगा हुआ था तथा शरीर पर भी खून था। इसी बीच पुलिस को खबर लगी कि मनियर में रमेश ओझा की हत्या ईंट, पत्थरों से कर दी गई है। इस पर जब पुलिस ने आरोपी महेन्द्र से सख्ती से पूछताछ की तो उसने उगल दिया कि उसने ही रमेश ओझा की हत्या की है। 

बहिन से विवाद के कारण घर छोड़कर किराए से रह रहा था रमेश 
मृतक की पत्नी सरोज ओझा ने जानकारी देते हुए बताया कि उनका विवाद मनियर में रहने वाली उनकी बहिन से चल रहा था और पिछले चार माह से वह मनियर में रघुवीर राठौर के मकान के पास एक झोंपड़ी बनाकर आठ सौ रूपए प्रतिमाह के किराये से रह रहे हैं। जहां उसका पति ठेला चलाकर और कपड़े बेचकर परिवार का भरण पोषण करता था। ठेला होने के कारण वह सुबह रघुवीर राठौर की चेली-बल्ली के फड़ से उक्त सामान ढोने का काम भी करता था।

इनका कहना है।
मनियर में सिर कुचलकर रमेश की हत्या की गई है। इस मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया है जिसके कपड़े और हाथ खून से सने हुए थे। हालांकि पकड़ा गया आरोपी अत्याधिक नशे में है। नशा उतरने के बाद उससे पूछताछ की जाएगी। तब ही घटना के पीछे के कारण स्पष्ट हो सकेंगे। पकड़ा गया आरोपी नेपाल का है जिससे इस बात की भी जांच की जा रही है कि मृतक और आरोपी के बीच क्या कनेक्शन था।
राजेश हिंगणकर एसपी शिवपुरी 
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics