Ad Code

पात्र व लंबित प्रकरणों की सूची जारी न होने से अध्यापकों में भारी रोष

शिवपुरी। लम्बे समय से अध्यपाक संवर्ग षिक्षा विभाग में संविलियन के लिये संघर्षरत रहा है जिनकी मांग मानते हुये म.प्र. सरकार ने अध्यापकों को राज्य षिक्षा सेवा में सम्मिलित करने का निर्णय कर 25 सितम्बर तक पात्र एवं लंबित प्रकरणों की सूची एजूकेषन पोर्टल पर जारी करने के निर्देश प्रदेश के समस्त जिला शिक्षाधिकारियों को दिये थें। जिन सूचियों पर दावे आपत्ति प्राप्त कर 30 सितम्बर तक प्रक्रिया पूर्ण कर अध्यापकों का राज्य षिक्षा सेवा में संविलियन करते हुये सहायक अध्यापकों को प्राथमिक षिक्षक अध्यापकों को माध्यमिक षिक्षक तथा वरिष्ठ अध्यापकों को उच्च माध्यमिक शिक्षक बनाये जाने के आदेश जारी होने थे। 

शिवपुरी जिले में अभी तक सूचीयॉ पोर्टल पर जारी न होने से पूरे जिले के अध्यापकों में भारी रोष व्याप्त हो गया है। आजाद अध्यापक संघ के जिलाध्यक्ष सुनील वर्मा एवं अध्यापक संविदा षिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष राजकुमार सरैया ने अध्यापकों की ओर से सहायक संचालक अषोक श्रीवास्तव को ज्ञापन सौंपा जियमें जिला शिक्षाधिकारी से मांग की है कि 30 सितम्बर तक सम्मपूर्ण प्रक्रिया पूरी करते हुये अध्यापकों के आदेश जारी किये जायें। 


ज्ञापन में छठवे वेतनमान के एरियर की राशि के शीघ्र भुगतान की मांग भी रखी गई। जिस पर सहायक संचालक अशोक श्रीवास्तव ने आदेश 30 सितम्बर तक जारी करवाने के भरसक प्रयास का आष्वासन दिया तथा छठवें वेतनमान के एरियर की राशि के शीघ्र भुगतान के लिये संकुल प्राचार्यों की बैठक कर निर्देशित करने की बात भी कही। 

ज्ञापन में प्रमुख रूप से राज्य अध्यापक संघ के जिलाध्यक्ष स्नेह रघुवंशी, अमरदीप श्रीवास्त, केपी जैन, रामकृष्ण रघुवंशी, मनमोहन जाटव, जनक सिंह रावत, महिल मोर्चा अध्यक्ष रिजवाना खांन, तनुजा गर्ग, बीना गोलिया, नंदकिशोर पाण्डेय, सतीश वर्मा, सतेन्द्र दुवे, देवेन्द्र परिहार, जीडी तरेटिया, ब्रजेन्द्र भार्गव, जितेन्द्र शर्मा, राधे शर्मा, सन्तोश यादव, वल्लभ आदिवासी, ब्रजमोहन यादव, राजेन्द्र धाकड़, भानू नरवरिया, रामेष्वर धाकड़, अनिल मलावरिया, अमरसिंह जाटव, संजय धाकड़, महेन्द्र नायक, राजेश

खत्री, समद अली, कीरत लोधी, ब्रजेष श्रीवास्तव, राजू जाट, गजेन्द्र धाकड़, रामलखन गुर्जर, जितेन्द्र सिंह चौहान, रणवीर रावत, महावीर मुदगल, करन राठौर, कपिल पचौरी, जगदीश बाथम आदि प्रमुख रूप से शामिल थे।