मैं CENTRAL BANK से आया हूं, आपके खातों में आएंगें 6-6 हजार बस अगूंठा लगा दो, पार कर दिए डेढ़ लाख

शिवपुरी। बैसे तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा कैशलेश भारत करने की पहल की जा रही है। जिससे लोगों को नेट बैंकिंग के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। परंतु लोग अब नेट बैंकिंग के जरिए ही लोगों को ठग रहे है। ऐसा ही एक मामला जिले के भौंती थाना क्षेत्र के ग्राम नागुली ग्राम पंचायत के करियाठेका गांव के आदिवासी मजरा में आया है। जहां गांव में बीते रोज एक अज्ञात युवक पहुंचा। खुद को सेंट्रल बैंक का कर्मचारी बताकर 50 आदिवासियों से थंब इंप्रेशन मशीन से अंगूठे लगवाए लिए और फिर संबंधितों के बैंक खातों से 1 लाख 50 हजार रुपए पार कर दिए। युवक ने ग्रामीणों को खातों में सरकार द्वारा छह-छह हजार रुपए जारी करने का लालच दिया। युवक के झांसे में आने के बाद ग्रामीण भूल कर बैठे और जब ठगी की भनक लगी तो सोमवार को सेंट्रेल बैंक के कियोस्क सेंटर पहुंचे तो खातों से राशि गायब हो चुकी थी। 

जानकारी के अनुसार 5 जुलाई को अज्ञात युवक दोपहर 12 बजे गांव आया और खुद को सेंट्रल बैंक कर्मचारी बताकर आदिवासियों से कहा कि सरकार आपके बचत खातों में छह हजार रुपए डालेगी। इसके लिए आधार कार्ड ले आएं और सरकार की योजना का लाभ उठाएं। आदिवासी लालच में आ गए और आधार कार्ड लाकर मशीन पर अंगूठे लगाना शुरू कर दिए। ठग के पास करीब 50 ग्रामीणों ने थंब इंप्रेशन पहुंच गए। बाद में पता चला कि किसी के खाते पांच हजार, छह हजार तो किसी के खाते से पांच सौ रुपए गायब थे। लगभग 1 लाख 50 हजार रुपए आदिवासियों के खातों से निकाले गए। 

इसके बाद सेंट्रल बैंक शाखा मनपुरा पहुंचकर खातों की जानकारी निकलवाई। हरबी पत्नी रामचरण के खाते से 1500, GUपत्नी नथुआ 580, सिजिया 550, श्याम आदिवासी 3 हजार, बसंती 550, मीरा पत्नी लखन 1530, भागीरथ 2 हजार, रुधीर 2 हजार, रामकली 500, कैलाश 500, रामनिवास 500, रनधीर 500 सहित अन्य आदिवासियों के खाते से राशि निकाली गई है। 
Share on Google Plus

About Yuva Bhaskar

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.

0 comments:

-----------

analytics