जिपं की साधारण सभा में हंगामा: भ्रष्टाचारी सेकेट्री की बहाली और 2.5 करोड की राशि खुर्दबुर्द का CEO पर आरोप

शिवपुरी। आज जिला पंचायत की साधारण सभा की बैठक में हंगामा हो गया। जिला पंचायत सीईओ पर पंचायत के सदस्यो ने भ्रष्टाचार के आरोप लगाए है। बैठक में जिला पंचायत के सीईओ जनप्रतिनिधियो के जबाब से बचते नजर आए। बताया गया है कि सीईओ ने बीस साल से भ्रष्टाचार के आरोप में निलबिंत चल रहे एक पंचायत सेकेट्री को बहाल किस आधार पर कर दिया, इस बात पर सबसे ज्यादा हंगामा हुआ। 

विगत चार तारीकों से लगातार टाली जा रही जिला पंचायत सदस्यों की बैठक आखिरकार सदस्यों के दबाव में बुधवार को जिला मुख्यालय स्थित जिला पंचायत कार्यालय में संपन्न हुई। जिला पंचायत सदस्यों द्वारा जिला पंचायत की राशि  को सीईओ द्वारा मनमाने रवैये से खर्च किए जाने पर खासा बवाल मचाया गया जबकि बीस साल से निलंबित एक जिला पंचायत सैकेट्री को अचानक बहाल किए जाने पर भी सदस्यों ने इसे नियम विरूद्ध बहाली बताते हुए सीईओ को जमकर खरी-खोटी सुनाईं। 

उधर जिला पंचायत अध्यक्ष श्री मति यादव और सांसद प्रतिनिधी रामवीर सिंह यादव सहित कई जिला पंचायत सदस्यों ने मीटिंग से पूर्व मिडिया को बताया कि जिला पंचायत सीईओ राजेश जैन पर यह आरोप लगाए कि सैकेट्री की नियम विरूद्ध बहाली और जिला पंचायत की लगभग ढाई करोड की राशि सामुदायिक भवन के नाम पर खुर्द-बुर्द किए जाने के सवालों से बचने के लिए ही सीईओ द्वारा 22 जून 5 जुलाई 7 जुलाई और 13 जुलाई की बैठक को टाला गया और बड़ी मुश्किल से बुधवार को सदस्यों के भारी दबाव के बाद यह बैठक बुलाई गई है। 

यह लगे सधारण सभा में सीईओ पर आरोप 
सीईओ पर आरोप है कि उन्होंने कोलारस में सामुदायिक भवनों के लिए अनयमित तरीकों से लगभग ढाई करोड की राशि का आवंटन कर दिया जबकि नियम यह है कि इस तरह के किसी भी कार्य के लिए बिना जिला पंचायत की साधारण सभा की बैठक के अनुमोदन के राशि आवंटित नहीं की जा सकती। 

सैकेट्री सुरेश धाकड जिनपर बिजरौना, गिंदौरा और धामनटूक जैसी तीन-तीन पंचायतों का प्रभार था और उन पर लाखों के गवन के बाद मामला भी चल रहा था उन्हें बीस साल से निलंबित होने के बावजूद अचानक बहाल कर दिया गया। जिला पंचायत सदस्यों का कहना है कि नियमानुसार इस तरह के मामले में तबतक बहाली नहीं हो सकती जब तक गवन का पैसा वापस जमा न करा लिया जाए या मामले में एफ आर न लग जाए। 

खबर लिखे जाने तक हंगामा 
साधारण सभा की बैठक में इस बात को लेकर भी खासा हंगामा रहा कि पूर्व की बैठकों में सभी पंचायतों के लिए जिन-जिन सदस्यों को राशि उनके क्षेत्र के कार्यों के लिए आवंटित की जाने का प्रस्ताव रखा गया था उसपर बाद में कोई कार्यवाही ही नहीं की गई। कुल मिलाकर जिला पंचायत की साधारण सभा की बैठक में हुए हंगामे के बाद जिला पंचायत सीईओ सदस्यों के सवालों से कन्नी काटते नजर आये जबकि समाचार लिखे जाने तक मीटिंग में हंगामा जारी था। 

इनका कहना है
सदस्यों के सवालों से बचने के लिए सीईओ चार बार मीटिंग कैंसिल कर चुके हैं। कर्मचारी की बहाली हो या जिला पंचायत  की राशि का आवंटनएसीईओ द्वारा सभी मामलों में नियम विरूद्ध प्रक्रिया अपनाई गई है। इस मामले में जिला कलेक्टर को तुरंत हस्तक्षेप कर जाँच कराई जाना चाहिए। 
रामवीर सिंह यादवएसांसद प्रतिनिधी जिला पंचायत शिवपुरी
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics