परिवार परामर्श केंद्र के सदस्यों ने पहले कराई सुलह फिर मनाया बच्चे का जन्मदिन

शिवपुरी। ग्वालियर जॉन के आईजी अंशुमन यादव के कुशल मार्गदर्शन एवं शिवपुरी एसपी सुनील पांडेय के नेतृत्व में अनवरत चलाए जा रहे जिला पुलिस परिवार परामर्श शिविर शनिवार को पुलिस कंट्रोल रूम में आयोजित किया गया। जिला पुलिस परिवार परामर्श केंद्र के शिविर में कुल 36 प्रकरण प्रस्तुत किए गए। इसमें जहां 15 प्रकरणों में समझौता करा कर अब तक का समझौतों का अधिकतम रिकार्ड बनाया गया। वहीं 1 प्रकरण में पुलिस थाना सुभाषपुरा को अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने वैधानिक कार्रवाई की अनुशंसा के साथ रिपोर्ट तलब की गई। 4 प्रकरणों में एक पक्ष अनुपस्थित रहा तथा 6 प्रकरणों में पुन: परामर्श के लिए अगली तारीख नियत की गई।  4 प्रकरणों को न्यायालय भेजने की अनुशंसा की गई।

शिवपुरी स्थित हवाई पट्टी की पास वाली कॉलोनी में निवासरत राजेश का उसकी पत्नी सीता से विवाद चल रहा था। इनके विवाह को 18 वर्ष हो चुके थे और इनके तीन बच्चे भी थे। विगत 6 माह से पति-पत्नी अलग रह रहे थे और तीनों बच्चे जिसमें सबसे बड़ी बच्ची 17 वर्ष की थी। मां के साथ रह रही थी। समझाईश के दौरान काउंसलरों को मालूम पड़ा कि आज उसके इकलौते बेटे का जन्म दिन है तो काउंसलरों ने पति-पत्नी को समझाईश देने के साथ-साथ उसके इकलौते 6 वर्षीय बेटे का जन्म दिन भी मनाया। यह देखकर बच्चे की मां की आंखें खुशी के मारे छलछला गई और पति-पत्नी में सुलह हो गई। 

नंद और भाभी में करवाई सुलह

एक अन्य प्रकरण में नंद और भाभी के बीच विवाद था जिसके चलते भाभी यह मान रहीं थी कि उसके घर में अशांति का मुख्य कारण नंद का हस्तक्षेप है। काउंसलरों द्वारा जब दोनों को साथ बिठाकर समझाया गया तो उन दोनों ही अपने गिले शिकवे भुलाकर एक दूसरे को माला पहनाई। भाभी और नंद में समझौता होने के साथ-साथ पति और पत्नी में भी समझौता हो गया। क्योंकि नंद के विवाद के कारण पति-पत्नी अलग रह रहे थे। 

फौजिया को फिर मिलवाया पति से

एक अन्य मार्मिक प्रकरण में ग्वालियर निवासी फौजिया का विवाह शिवपुरी के रहीस अहमद के साथ हुआ था। प्रसव के समय उसे बेटी हुई लेकिन साथ ही उसके आधे शरीर में फालिस मारने के कारण उसका एक हाथ और पैर ने काम करना लगभग बंद कर दिया। साथ ही उसकी आवाज भी चली गई। उसका पति उसके देख रेख कर रहा था मगर मायके पक्ष को ऐसा लगा कि वह प्रोपर देख रेख नहीं कर रहे हैं। इसी के चलते वह अपनी बेटी को ग्वालियर ले गए। आज परामर्श दाताओं ने अपनी कुशल समझाईश से लड़की के पिता तथा पति को समझाया और यह तय पाया गया कि वे ग्वालियर में किसी अच्छे न्यूरोलॉजिस्ट को दिखाकर उसका उपचार कराएंगे इस तरह उन दोनों परिवारों में सुलह हुई। परामर्श दाताओं ने यह भी आश्वासन दिया चूंकि वे मजदूरी करते हैं। इसलिए उसके इलाज में यथा संभव व्यक्तिगत स्तर पर और शासन स्तर पर जो भी मदद होगी उसके लिए सभी परामर्शदाता अपनी-अपनी ओर से उस महिला के उपचार के लिए प्रयास करेंगे।
ये भी रहे मौजूद  
इस अवसर पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कमल मौर्य, जिला संयोजक आलोक एम इंदौरिया, वरिष्ठ काउंसलर सीमा-सुनील पांडेय, महिला सैल प्रभारी कोमल परिहार, पुष्पा खरे, आनंदिता गांधी, प्रीति जैन, स्वेता गंगवाल, संतोष शिवहरे,  राजेन्द्र राठौर, हरवीरसिंह चौहान, समीर गांधी, डॉ. विजय खन्न्ा,  एएसआई बेबी तबस्सुम सहित महिला सेल का स्टाफ मौजूद था। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कमल मौर्य ने महिला सैल के उत्कृष्ट कार्य को देखते हुए स्टाफ को प्रशंसा के साथ-साथ एसपी को रिवार्ड के लिए अनुशंसा की।
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics