उपार्जन में व्यवधान डालने वाले तत्वों पपर होगी कार्यवाही: शिवराज सिंह चौहान

शिवपुरी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज मंत्रालय में वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से संभागायुक्तों और कलेक्टरों के साथ सम-सामयिक विषयों पर चर्चा करते हुए उन्हें आवश्यक निर्देश दिये। उन्होंने भावांतर भुगतान योजना और मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना की चर्चा करते हुए कहा कि एक हफ्ते के भीतर उन सभी किसानों के खातों में राशि पहुँच जाना चाहिये जिनमें तकनीकी कारणों के विलम्ब हुआ। उन्होंने कहा कि किसी भी स्तर पर भुगतान में विलम्ब की स्थिति ठीक नहीं है। व्यवधान रहित गेहूँ उपार्जन के लिये कलेक्टरों को बधाई।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने गेहूँ उपार्जन के लिये की गई तैयारियों और बिना किसी व्यवधान के चल रहे गेहूँ उपार्जन पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए जिला कलेक्टरों और संबंधित विभागीय अमले को बधाई दी। उन्होंने कहा कि विशेष परिस्थितियों में किसानों की सहूलियत के लिये खरीदी केन्द्रों को उनके गाँवों के पास भी स्थापित किया जा सकता है । किसानों की संख्या कम होने पर उनकी उपज लाने के लिये परिवहन की व्यवस्था भी की जा सकती है। उन्होंने कहा कि खरीदी केन्द्रों पर तुलाई में अनावश्यक विलम्ब नहीं होना चाहिये। किसानों को ज्यादा से ज्यादा मदद देना सरकार की प्राथमिकता है। 

मुख्यमंत्री ने कलेक्टरों कहा कि सोशल मीडिया पर किसानों को गुमराह करने वाले और खरीदी व्यवस्था में व्यवधान डालने के इरादे से प्रसारित संदेशों के संबंध में अत्यधिक सावधान रहें। खरीदी व्यवस्था सहित किसानों के हित में उठाये गये कदमों और उनके कल्याण के लिये बनाई व्यवस्थाओं में बाधा डालने वालों पर कड़ी कार्रवाई होगी। 

जिलों में होंगे श्रमिक कल्याण सम्मेलन श्री चौहान ने मुख्यमंत्री असंगठित क्षेत्र मजदूर कल्याण योजना की चर्चा करते हुए कलेक्टरों से कहा कि यह सरकार की अत्यंत महत्वाकांक्षी योजना है। सभी कलेक्टर अपने-अपने जिले में श्रमिक कल्याण सम्मेलनों की तैयारी करें। पंजीकृत श्रमिकों की सूची दो मई को होने वाली ग्राम सभाओं में पढक़र सुनाई जायेगी। शहरों में वार्ड सभाओं में यह सूची पढक़र सुनाई जायेगी। उन्होंने कलेक्टरों को निर्देश दिये कि भूमिहीन, आवासहीन गरीब मजदूरों को जमीन का पट्टा देने की सभी औपचारिकताएँ पूरी कर लें। उन्होंने स्पष्ट किया कि श्रमिकों के पंजीयन में सभी दस्तावेज स्व-प्रमाणित मान्य किये जायेंगे ताकि उन्हें परेशान न होना पड़े। उन्होंने कहा कि आदिवासी बहुल जिलों में पात्र परिवारों को वनाधिकार पट्टे हर हालत में मिल जाना चाहिए। 

पेयजल संकट से निपटने की रणनीति तैयार रखें मुख्यमंत्री ने कलेक्टरों को निर्देश दिये कि वे अपनी पूरी क्षमता के साथ कम वर्षा से पैदा पेयजल संकट से निपटने की तैयारी रखें। जहाँ संकट ज्यादा हो, वहाँ परिवहन के माध्यम से भी पेयजल उपलब्ध कराने की रणनीति बनायें। श्री चौहान ने केन्द्र सरकार के ग्राम स्वराज अभियान के अंतर्गत की जाने वाली गतिविधियों और कार्यक्रमों के संबंध में भी आवश्यक तैयारी करने के निर्देश दिये। उन्होंने बताया कि 24 अप्रैल को पंचायत राज दिवस पर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी मंडला जिले के ग्राम रामपुर से पूरे देश को संबोधित करेंगे। उनके संबोधन के सजीव प्रसारण की व्यवस्था की गयी है। सभी जिला, जनपद, ग्राम पंचायतों और ग्राम सभाओं में सजीव प्रसारण देखने की व्यवस्था सुनिश्चित करें। 

श्री चौहान ने बताया कि 30 अप्रैल को आयुष्मान भारत कार्यक्रम आयोजित किया जायेगा। इसके अंतर्गत स्वास्थ्य परीक्षण शिविर लगाये जायेंगे और स्वास्थ्य साक्षरता संबंधी गतिविधियाँ संचालित की जायेंगी। दो मई को किसान कल्याण दिवस पर किसानों की आय दोगुनी करने के संबंध में ग्राम सभाओं की विशेष बैठक में चर्चा होगी। पांच मई को आजीविका और कौशल विकास दिवस मनाया जायेगा। वीडियो कांफ्रेंसिंग में मुख्य सचिव बी.पी. सिंह, अपर मुख्य सचिव गृह के.के. सिंह और प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री अशोक वर्णवाल एवं संबंधित विभागों के प्रमुख सचिव उपस्थित थे। शिवपुरी कलेक्ट्रेट के एनआईसी के वीडियों कांफ्रेंसिंग हॉल में कलेक्टर  तरूण राठी, पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार पाण्डे, डीएफओ लवित भारती सहित जिलाधिकारीगण उपस्थित थे। 
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics