ShivpuriSamachar.COM

Bhopal Samachar

कलेक्ट्रेट में जमींन के लिए आदिवासीयों का प्रदर्शन, कलेक्ट्रेट में बनाई रोटिंया, हंगामा VIDEO

शिवपुरी। आज पूरे दिन कलेक्ट्रेट कार्यालय में जमकर हंगामा चलता रहा। सहरिया क्रांति के बैनर तले ग्राम मोहम्मदपुर के पूरे गांव के छोटे से लेकर बडे तक सभी लोग कलेक्ट्रेट में पहुंचे। जहां इन आदिवासीयों ने कलेक्ट्रेट परिसर में जमकर हंगामा किया। इस मामले की सूचना पर कोतवाली टीअई बादाम सिंह यादव, SDOP सुरेश चंद्र दोहरे सहित सुरवाया थाना प्रभारी रविन्द्र सिकरवार पहुंचे। 

जानकारी के अनुसार बीते दो दिन पहले ग्राम मोहम्मदपुर के ग्रामीण कलेक्ट्रेट में आए। जहां महिलाओं ने रूधन कर प्रशासन को उनकी करूण पुकार सुनने का आग्रह किया। जिसपर दो दिन पहले कलेक्टर न होने के चलते आश्वासन देकर चलता कर दिया। आदिवासीयों का आरोप है कि उनकी जमींन पर गांव के ही शेरा सरदार ने कब्जा कर लिया है। साथ ही उनके राशनकार्ड भी गिर्वी रखे हुए है। 

रैली के रूप में कलेक्ट्रेट पहुंचे आदिवायों को कलेक्ट्रेट के बाहर ही रोककर पुलिस ने गेट लगा लिया। जिसे देककर ग्रामीण आक्रोशित हो गए और गेट से लटक गए। पुलिस ने इन ग्रामीणों को समझााईस दी। जिसके बाद ग्रामीण मान गए और कलेक्ट्रेट कार्यालय के बाहर ही धरने पर बैठ गए। आदिवासीयों को जिद थी कि उनकी सुनवाई करने कलेक्टर खुद आए। 

जिस पर डिप्टी कलेक्टर आए और उन्होंने बताया कि कलेक्टर शिवपुरी में नहीं है। जिसपर आदिवासी समुदाय के लोग घर से लाए लकडीयों पर कलेक्ट्रेट परिशर में ही रोटी बनाकर आमरण अनसन पर जम गए। इस घटना की सूचना पर सहरिया क्रांति के संयोजक संजय बैचेन कलेक्ट्रेट पहुंचे और आदिवासीयों की बात को प्रशासन के समक्ष रखा। उसके बाद प्रशासन ने उन्हें 15 दिन में उनकी जमींन के कब्जे दिलाने और सीमांकन का आश्वासन दिया। तब कही जाकर यह धरना खत्म हो सका। 

इनका कहना है

आज सहरिया क्रांति के आदिवासी कलेक्ट्रेट आए थे। जिन्होने पहले भी सुनवाई नहीं होने पर आक्रोश जाहिर किया। इनको डिप्टी कलेक्टर ने 15 दिन का आश्वासन दिया है। 15 दिन में अगर इन्हें पट्टे नहीं दिलाए गए तो फिर सहरिया क्रांति देश व्यापी आंदोलन करेंगा। जिसका जिम्मदार प्रशासन होगा। 
संजय बैचेन,संयोजक,सहरिया क्रांति 
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

-----------

analytics