Ad Code

दुर्घटना में मारे गऐ रोहित की जेब से TI का फर्जी आईडी कार्ड निकला, जांच शुरू | SHIVPURI NEWS

शिवपुरी। कल देर रात शहर के पोहरी बायपास के पास दुर्घटना में मौत हुई रोहित श्रीवास्तव की जेब से मप्र पुलिस के अधिकारी का आईडी कार्ड निकला। बताया जा रहा है कि यह आईडी फर्जी निकला। रोहित पेशे से ड्रायवर था, यह आईडी कहा यूज करता था, इसकी जांच की जा रही है।

जैसा कि विदित है कि मंगलवार की रात लगभग 10:30 बजे पोहरी बायपस के पास अज्ञात वाहन ने जूपीटर पर सवार युवक को टक्कर मार दी। दुर्घटना देख पुलिस के कम्युनिटी हॉल में रहने वाले पुलिसकर्मी आ गए। घायल युवक को बाइक से सीधे जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। जेब से निरीक्षक के रूप में राष्ट्रपति द्वारा दिया गया प्रमाण पत्र मिला। यह देखकर पुलिसकर्मियों ने वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया। 

घटना स्थल पर टीआई बादाम सिंह यादव व SDOP सुरेशचंद्र दोहरे भी पहुंच गए। बाद में पूछताछ करने पर पता चला कि युवक कहीं पोस्टेट नहीं है और जेब से निकला प्रमाण पत्र फर्जी है। युवक की पहचान रोहित (27) पुत्र ब्रह्मा श्रीवास्तव निवासी ग्राम बेरला बैराड़ हाल गांधी कॉलोनी शिवपुरी के रूप में हुई। गंभीर हालत के चलते डॉक्टरों ने ग्वालियर रेफर कर दिया, लेकिन बुधवार की तड़के करीब 4 बजे उसकी मौत हो गई। परिजन शव लेकर शिवपुरी आए, जहां पीएम कराया है। अंत्येष्टि के लिए परिजन शव गांव ले गए हैं। बताया जा रहा है कि दुर्घटना पुलिस वाहन से हुई है। 

फर्जी प्रमाण पत्र में यह लिखा, आईकार्ड के रूप में उपयोग करता था मृतक 

फर्जी प्रमाण पत्र में सबसे ऊपर रोहित श्रीवास्तव, निरीक्षक मध्यप्रदेश लिखा है। नीचे दायं तरफ वर्दी वाला फोटो लगा है। इसके बाद राष्ट्रपति द्वारा संबोधित शब्द हैं जिसमें लिखा है कि "मैं भारत का राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम आपकी वीरता को मान्यता देते हुए आपको वीरता मैडल प्रदान करता हूं।' इसके बाद नीचे राष्ट्रपति और ऊपर हिंदी में खराब राइटिंग में अब्दुल कलाम लिखा है। प्रमाण पत्र में बायीं तरफ नई दिल्ली व नीचे दिनांक 10.06.2007 लिखी है। बताया जाता है कि युवक उक्त प्रमाण पत्र को आईकार्ड के रूप में उपयोग करता था। 

जांच करा रहे हैं 

दुर्घटना में घायल युवक की ग्वालियर में मौत हो गई है। युवक की जेब से फर्जी प्रमाण पत्र मिला है। पहले हमें भी लगा कि यह हमारे विभाग से है। लेकिन बाद में पता चला यह तो इंस्पेक्टर छोड़ सिपाही भी नहीं है। इस प्रमाण पत्र की सत्यता जानने के लिए जांच कर रहे हैं। रोहित को ड्राइवर बताया जा रहा है। 
सुरेशचंद्र दोहरे, एसडीओपी शिवपुरी