Ad Code

Responsive Advertisement

दीवान और आरक्षक बंद कमरे में कूटते रहे थानेदार साहब बहार बैठे रहे: मामला जुआ पकडने का | Shivpuri News

शिवपुरी। खबर अमोलपठा चौकी से आ रही है कि जुए कि सूचना पर गई अमोलपठा चौकी पुलिस की टीम ने चिन्हित स्थान पर धावा बोला तो जुआ खेलने वाले तो फरार हो गए,लेकिन जुए का फड संचालित करने वालो ने धावा मारने गई टीम के एक आरक्षक और दिवान को पकड लिया और कमरे में बंद कर पिटाई लगाई, शराब पिलाने का प्रयास किया इसमें कामयाब नही हो सके तो शराब से नहला दिया।

बताया जा रहा है कि  एक आदिवासी महिला को लाकर वहां एक पुलिसकर्मी पर महिला द्धारा आरोप लगाए जाने का विडियो भी बनाया गया। पुलिस ने घटना के 24 घंटे बाद 6 लोगो पर पुलिस प्रकरण दर्ज कर लिया।इसमें सबसे बडी बात यह हैं कि चौकी के प्रभारी बहार बैठे रहे। 

जानकारी के अनुसार अमोलपठा पंचायत के मजरा भांसमेरा में जुआ होने की खबर पुलिस को लगी। चौकी प्रभारी प्रतापसिंह गुर्जर,हवलदार दिनदयाल डोंगरे व आरक्षक सोनेराम कुशवाह वहां पहुंचे। यह जुआ गांव में रहने वाले भगवान सिंह परमार के घर पर चल रहा था,पुलिस को देखकर जुआरी वहां से भाग गए।

पुलिस ने भगवान सिंह परमार को समझाने का प्रयास किया तो भगवान सिंह के तीनो बेटे कुलदीप,रिंकू,नीटू के अलावा मोनूराजा परमार व निवास लोधी वहां आ गए। इन लोगो ने दरोगा को बहार बिठा दिया और आरक्षक और दिवान को कमरे में बंद कर पीटा ओर फिर बंधक बना लिया। बतााते है कि दीवान व सिपाही को शराब पिलाने का प्रयास किया औरा जब उन्होने शराब नही पतपी तो उनकी वर्दी पर शराब उडेल दी। 

इतना ही नही कुछ देर एक आदिवासी महिला को लाया गया और आरक्षक सोनेराम से महिला के संबंध होने की बात का वीडियो बनाया। इसके बाद पुलिसकर्मी किसी तरह वहां से जान बचाकर भागे। इस घटना के बाद पुलिस ने मामला दर्ज नही किया तो स्टाफ के बीच आपस में विवाद हो गया। जिसके चलते शुक्रवार की देर शाम अमोलपठा चौकी पुलिस ने भगवान सिंह व उसके तीनो बेटो सहित मोनूराजा परमार व निवास लोधी पर शासकीय कार्य में बाधा,रास्ता रोक कर गाली—गलौच करने का प्रकरण दर्ज कर दिया।

इनका कहना है
मुझे व सोनेराम को कमरे में बंधक बनाकर पीटा तथा शराब पिलाने का प्रयास किया। जब हमने शराब नही पी तो वर्दी पर शराब डाल दी। फिर एक आदिवासी महिला को लेकर आए और सोनेराम पर आरोप लगाते हुए का वीडियो भी बनाया। मेरी 30 साल की नौकरी में ऐसा कभी नही हुआ,जो कल हुआ। हमारे साथ चौकी प्रभारी भी थे,जो बहार बैठे रहें।
दीनदयाल डोंगरे हवलदार, अमौलपठा चौकी

हमारे दीवान व आरक्षक जब क्षेत्र भ्रमण पर थे,तभी उन्है जुआ की सूचना मिली। वहां पर जुआरी तो भाग गए,लेकिन मकान ने अपने बेटो व दो अन्य के साथ मिलकर हमारे पुलिस कर्मियो का रास्ता रोककर गली—गलौच कर दी। सूचना मिलने पर मैं भी बाद में वहां पहुंचा। मारपीट शराब पिलाने या महिला के साथ वीडियो आदि जैसी कोई बात नही हुई। 
प्रताप सिंह गुर्जर, चौकी प्रभारी अमोलपठा