डॉ कल्पना बसंल ने छात्राओं को बताया गुड टच-बेड टच के विषय में, आप भी समझे

शिवपुरी। जब भी घर में या बाहर किसी प्रकार का छेड़छाड़ अथवा कोई गलत तरीके से युवतियों को देखें या उन्हें हाथ लगाए समझ लेना चाहिए कि सामने वाला व्यक्ति किस मंशा से आपकेे साथ यह हरकत कर रहा है यदि आपको गलत लगे जो जागरूक बनें और इसकी शिकायत महिला प्रकोष्ठ अथवा पुलिस में थाने में करें ताकि ऐसा करने वालों के विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जाए। लायंस सेन्ट्रल की इस गोष्ठी का उद्देश्य यही है कि युवतियां जागरूक होकर गुड टच और बैड टच को समझें। उक्त बात कही डॉ.श्रीमती कल्पना बंसल ने जो स्थानीय शासकीय कन्या माध्यमिक विद्यालय शिवपुरी पर आयोजित लायंस क्लब शिवपुरी सेन्ट्रल द्वारा मनाए जा रहे सेवा सप्ताह के तहत गुड टच-बैड टच गोष्ठी को संबोधित कर रहीं थी। 

इस अवसर पर लायंस क्लब के सह प्रांतपात प्रथम अशोक ठाकुर मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद रहे जिन्होंने इस गोष्ठी को जागरूकता कार्यक्रम के माध्यम से युवतियों को जागरूक होने का आह्वान किया। कार्यक्रम में लायंस सेन्ट्रल अध्यक्ष ला.एस.एन.उपाध्याय, सचिव एड.राजेन्द्र अग्रवाल व सचिव संजीव गुप्ता सहित लायनेस अध्यक्षा श्रीमती बबीता जैन, सचिव श्रीमती मीना अग्रवाल एवं कोषाध्यक्ष श्रीमती सरोज जैन विशेष रूप से मौजूद रही जिन्होने इस गोष्ठी में अपने विचार व्यक्त करते हुए युवतियों को कई प्रकार के छेड़छाड़ तरीकों को बताया और उन्हें जागरूक बनाया। 

इस दौरान गोष्ठी में लायन्स क्लब साथी धर्मेन्द्र जैन, अशोक रन्गढ़, भारत त्रिवेदी, लायनेस श्रीमती स्वीटी जैन, श्रीमती संगीता रन्गढ़ आदि भी मौजूद रहे। इसके अलावा सेवा सप्ताह के तीसरे दिन अन्दान सेवा के तहत दूरस्थ ग्रामीण अंचलों में पहुंचकर लायन्स क्लब शिवपुरी सेन्ट्रल द्वारा अनाज के पैकेटों को गरीब-निर्धन और निराश्रितों को दान किए गए। 

इनमें 5 किलो आटा, 01 किलो नमक, 01 किलो दाल और 01 चावल से भरे हुए अन्नदान के पैकेट थे जो दूरस्थ ग्रामीण अंचल ग्राम ऐरावन में पहुंचकर लायंस सेन्ट्रल अध्यक्ष एस.एन.उपाध्याय, सचिव एड.राजेन्द्र अग्रवाल, कोषाध्यक्ष संजीव गुप्ता व सदस्य प्रदीप जैन, जे.के.जैन, धीरज शर्मा, ललित दीक्षित के द्वारा भी योगदान दिया गया। 
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics