Ad Code

रक्षाबंधन पर छोटा भीम और कुंदन राखी बन रही है बहनों की पहली पंसद | shivpuri

शिवपुरी। बहन-भाई का पवित्र त्यौहार रक्षाबंधन 26 अगस्त को मनाया जाएगा। जिसे लेकर शहर के बाजारों में रौनक बढ़ गई है। जगह-जगह राखी की दुकाने सजाई गई हैं। जहां खरीददारी के लिए महिलाएं और बच्चें बाजारों में पहुंच रहे हैं। इस बार बच्चों की पहली पसंद छोटा भीम राखी है जो 10 रूपए से लेकर 50 रूपए तक बाजार में बिक रही है। जबकि बड़ों में कुंदन की राखी का क्रेज बना हुआ है। जो 100 रूपए से लेकर 1 हजार रूपए तक बाजार में उपलब्ध है। वहीं चांदी की राखी और सोने के ब्रासलेट भी लोगों की पसंद बने हुए हैं। 

राखी व्यवसया से जुडे व्यापारी बताते हैं कि इस वर्ष राखी का व्यापार कुछ अच्छा चलने की उम्मीद है। इसलिए बाजार में पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष दुकाने अधिक लगी हैं। फैंसी राखियों की मांग के चलते महंगी से महंगी राखी दुकानों पर उपलब्ध है और लोग महंगी राखी खरीदने में भी परहेज नहीं कर रहे हैं। अभी रक्षाबंधन में 5 दिन शेष हैं लेकिन बाजारों में रौनक आ गई है। जिससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि रक्षाबंधन तक व्यापार अच्छा चलेगा। 

बाजार में लगी राखियों की दुकानों के अलावा ज्वेलर्स की दुकानों पर भी लोग चांदी की राखियां और सोने के ब्रासलेट खरीदने पहुंच रहे हैं। बहने अपनी भाईयों को अच्छी से अच्छी और महंगी से महंगी राखी खरीद करने में उत्सुक्ता दिखा रही हैं। वहीं बाजार में गिफ्ट की दुकानों पर भी काफी भीड़ देखी जा रही है। बहनों के प्रति श्रद्धा रखने वाले भाई भी उन्हें उपहार में अच्छे से अच्छा उपहार देने के लिए खरीददारी कर रहे हैं। सरार्फा व्यापार से जुड़े व्यवसायी बताते हैं कि रक्षाबंधन को लेकर लोग सोने के आभूषण भी खरीद रहे हैं और उन्हें आशा है कि इस बार रक्षाबंधन का त्यौहार व्यापारियों के लिए सौगात लेकर आया है। 

सदर बाजार और गांधी चौक राखियों की दुकानों से पटा
रक्षाबंधन से पूर्व इस बार शहर में सैकड़ों की संख्या में दुकाने लगाई गई है। वहीं ठेलों पर भी जगह-जगह राखियां बेची जा रही हैं। गांधी चौक और सदर बाजार पर स्थिति यह है कि जगह-जगह राखी की दुकानें लगी हुई है और वहां खरीददार भी पहुंच रहे हैं। राखी की कई ऐसी दुकानें भी है जिन्हें शोरूम की तरह सजाया गया है। लोगों में आकर्षण पैदा करने के लिए दुकानों में विशेष लाईटिंग लगाई गई है। जो राखियां खरीदने वालों को अपनी ओर आकर्षित कर रही हैं।