हड़तालियो ने की 2 और बाबूओ की ऑफिस में की मारपीट: साहब ने नाश्ता कर मामला सुलटा लिया

शिवपुरी। कल देर एक विडियो वायरल हुई इस विडिया से मिडिया को पता चला कि हडताली बाबूओ ने डीपीसी ऑफिस में घुसकर वहां काम कर रहे प्रोढ शिक्षा अभियान के लिपिक राजेन्द्र श्रीवास्तव की मारपीट कर दी। घटना शाम 4 बजे की बताई जा रही है। इस मामले में देर रात कोतवाली में आकर डीपीसी शिरोमणि दुबे ने आकर विडियो में दिखाई दे रहे बाबू की मारपीट कर रहे आरोपियो की पहचान कर मामला दर्ज करा दिया और कलेक्टर ने आज इन मारपीट करने वाले बाबूओ को सस्पैंड भी कर दिया। 

लेकिन इस मामले मेें एक और चौकाने वाली खबर आ रही है कि डीपीसी ऑफिस से पूर्व जिला रजिस्टार कार्यालय में भी एक लिपिक रामेश्वर राठौर की मारपीट इस कार्यालय प्रबंधक ओपी अंब के सामने मारपीट की थी, और इसके बाद बीईओ कार्यालय के एक बाबू तिलक पंजाबी की मारपीट करने की खबर आ रही है। इन दोनो मामलो को दबा दिया गया है। 

बताया जा रहा है कि जिला रजिस्टार कार्यालय के बाबू रामेश्वर राठौर ने इस पिटाई का विरोध किया तो कार्यालय प्रबंधक ने हडताल कर रहे हड़तालियो के हिम्मत सिंह अध्यक्ष को बुलाया और साहब ने चाय नाश्ता किया और मामले सुलटा कर लिया। लेकिन जब बाबू ने इसका विरोध किया तो अंब साहब ने बाबू को नौकरी न करने की धमकी दे डाली और कहा कि वह मेरा रिश्तेदार है मै उसके खिलाफ पुलिस कंपलेट नही कर सकता है। अगर ज्यादा नेतागिरी की तो किसी भी मामले में उलझाकर नौकरी खा जाउंगा। वही बीईओ कार्याल माधव चौक स्कुल के बाबू से संपर्क नही हो सका है। 

कल भी इस डीपीसी कार्यालय में हुई लिपिक की मारपीट के मामले में देर रात तक एफआईआर कराई गई। यह एफआईआर भी कलेक्टर के हस्तक्षेप के बाद हो हुई है जब यह कुटाई-पिटाई की विडियो सोशल साईड पर वायरल हुई तो कलेक्टर शिल्पा गुप्ता ने सीधे डीपीसी को डांट पिलाई कि अभी तक इस मामले की एफआईआर क्यो नही हुई। 

इन 2 बाबूओ को लेकर शिवुपरी समाचार डॉट कॉम ने कलेक्टर शिल्पा गुप्ता से बातचीत की तो उन्होने कहा कि यह मामला आपके द्वारा संज्ञान में लाया गया है। मै आपके द्वारा बताए गए कर्मचारियो से तत्काल बातचीत कर आगे की कार्रवाई को अंजाम दिया जाऐगा। खबर लिखे जाने तक कलेक्टर ने इनमें से एक  बाबू को तलब कर लिया था।
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

-----------

analytics