नपाउपाध्यक्ष का वार्ड बना कचरा घर, पेयजल को भटकते रहवासी

शिवपुरी। शहर के नगरपालिका उपाध्यक्ष अनिल शर्मा अन्नी की छवि अपने वार्ड के प्रति संवेदनशील पार्षद की है। उन्हें तथा उनकी पत्नि के कार्यकाल को देखें तो लगातार 10 साल से पार्षद पद पर शर्मा दंपत्ति का कब्जा है। 2009 में अनिल शर्मा की पत्नि वार्ड क्रमांक 13 से पार्षद थी जो कि उनका घरेलू वार्ड है, परंतु आरक्षण के कारण 2014 में उन्हें वार्ड क्रमांक 13 के स्थान पर वार्ड क्रमांक 10 में शिफ्ट होना पड़ा और यहां अन्नी शर्मा कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में आसानी से जीत भी गए। 

नगर के वार्डों में समस्याएं इतनी विकट हैं कि 4 साल बाद भी पार्षद अनिल शर्मा को अपने वार्ड की समस्या से निजात नहीं मिल पा रही है। उनके वार्ड में तमाम प्रयासों के बाद भी गंभीर रूप से पेयजल संकट व्याप्त है और गंदगी के कारण वार्ड में बीमारी फैलने का अंदेशा भी बढ़ रहा है। 

प्रयासों के बाद भी वार्ड में बना हुआ है पेयजल संकट 
वार्ड क्रमांक 10 में मुख्य समस्या पेयजल संकट है। हालांकि वार्ड में पेयजल सप्लाई हेतु 31 टयूबवैल लगे हुए हैं जिनमें से 9 दम तोड़ चुके हैं और 22 टयूबवैलों में भी जल स्तर नीचे जाता जा रहा है। इससे वार्ड में पेयजल संकट गहरा रहा है हालांकि नपा उपाध्यक्ष का कहना है कि उन्होंने फतेहपुर संपवैल से पानी की पाइप लाइन डलवाई है जिससे वर्मा कॉलोनी का 25 प्रतिशत हिस्सा, कृष्णपुरम कॉलोनी का 50 प्रतिशत हिस्सा और संपूर्ण फतेहपुर रोड़ को पेयजल सप्लाई हो रही है, लेकिन सच्चाई यह है कि इसके बाद जनता त्रस्त बनी हुई है।

लेकिन जब वहां मौके पर जाकर देखा तो कुछ महिलाएं रोड़ किनारे लगे एक बोर से कट्टियों की लाइन लगाकर पानी भरती हुई मिलीं। जिसमें बहुत ही कम धार में पानी आ रहा था। उक्त महिलाओं से उनके नाम पूछे गए तो पहले वह आनाकानी करती रहीं, लेकिन बाद में एक महिला राजकुमारी कुशवाह ने कहा कि जल समस्या से वह जूझ रही हैं। कैलाश कुशवाह, रूबी राठौर भी मुखर हो गईं और उन्होंने कहा कि वह पिछले 2 वर्षों से पानी के लिए घरों से निकलकर दूर-दूर तक जाती हैं। सुबह घरों का काम छोडक़र वह पानी की व्यवस्था करने में व्यस्त रहती हैं। उनकी कॉलोनी में 2 वर्षों से पानी का टैंकर नहीं आया है। वहीं नलों से भी पानी नहीं आ रहा है। 

नालियां तो बनी, लेकिन नहीं होती सफाई 
वार्ड क्रमांक 10 की कृष्णपुरम कॉलोनी में रहने वाले लोगों ने अपनी समस्याएं तो गिनाईं, लेकिन कोई भी अपना नाम बताने को तैयार नहीं हुआ। लोगों का कहना था कि उनकी कॉलोनी में नालियां तो बनवा दी गईं हैं, लेकिन वहां कोई सफाई करने नहीं आता। ऐसी स्थिति में नालियां चौक हो गई हैं और गंदा पानी नालियों से निकलकर सडक़ पर आ जाता है। जिससे कॉलोनी में गंदगी फैलती है और वहां सुअरों के साथ-साथ मच्छर और मक्ख्यिां पनप रही हैं और इससे बीमारियां बढऩे की आशंकाएं बढ़ रही हैं। 

सफाईकर्मी कई दिनों तक नहीं हटाते मरे हुए पशु 
कृष्णपुरम कॉलोनी में रहने वाले महेश गुप्ता ने बताया कि उनके घर के सामने कुत्तों के हमले से एक सुअर मर गया था। जिसकी सूचना मकान मालिक सहित आसपास के लोगों ने नगरपालिका को दी, लेकिन दोपहर तक नपा द्वारा कोई भी सफाईकर्मी वहां नहीं पहुंचाया गया जिससे लोगों को आने जाने में काफी परेशानी उठानी पड़ी। यहां तक कि लोगों ने नपा उपाध्यक्ष को भी इस समस्या से अवगत कराया। इसके बावजूद भी वहां कोई नहीं पहुंचा। 

सडक़ों के नाम पर सिर्फ गड्डे
पानी और सफाई के साथ-साथ नागरिकों ने सडक़ का रोना भी रोया और बताया कि वार्ड में सडक़ें तो हैं, लेकिन उनमें गड्डे ही गड्डे हैं जिनमें भी पानी भरा हुआ है जिससे लोगों को आने जाने मेें परेशानी होती है। 

इनका कहना है
यह बात सही है कि मेरे वार्ड में पेयजल संकट है और सडक़ें और सफाई की व्यवस्था भी नहीं है। यह बात मैं स्वीकार करता हूं, लेकिन यह कहना गलत है कि मैंने कुछ किया नहीं। जब मैं इस वार्ड से निर्वाचित हुआ था तो यह वार्ड पूरे क्षेत्र के पिछड़े वार्डों में शामिल था। मेरे पार्षद बनने के बाद वार्ड में सबसे पहले नालियों का निर्माण कराया गया। वर्षों से इस वार्ड में नालियां ही नहीं थीं। पानी की व्यवस्था के लिए जो प्रयास मेरे द्वारा किए गए हैं पूरे शहर के किसी वार्ड में ऐसी व्यवस्था नहीं है। मुझे यह स्वीकार करने में भी बिल्कुल हर्ज नहीं है कि कुछ लोग समस्याओं से जूझ रहे हैं और मेरा फोकस उन लोगों को सुविधाएं मुहैया कराना है और जल्द से जल्द मैं अपने वार्ड को अग्रणी बनाकर ही दम लूंगा। हालांकि गर्मियां शुरू हो गईं हैं इसलिए सर्वाधिक ध्यान पेयजल समस्या को दुरूस्त करना है और मैं इसमें जी जान से जुटा हुआ हूं।
अनिल शर्मा अन्नी, नपा उपाध्यक्ष शिवपुरी 
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics