मां बेटी मेला एवं वार्षिकोत्सव संपन्न

बदरवास। कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय बूढ़ाडोगर में मां बेटी मेला एवं वार्षिकोत्सव कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें देशभक्ति गीतों, डांडिया एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुतियां बालिका छात्रावास की बालिकाओं द्वारा दी गई। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि डीपीसी शिरोमणी दुबे ने मां सरस्वती की प्रतिमां पर माल्यार्पण व दीप प्रज्वलित कर किया। मंचासीन अतिथियों में विशिष्ठ अतिथि के रूप में बदरवास तहसीलदार प्रेमलता पाल, टीआई बदरवास सुनील शर्मा एवं बदरवास एसबीआई बैंक के प्रबंधक रमेश झा मंचासीन थे। मंचासीन अतिथियों का छात्रावास की वार्डन वंदना शर्मा पुष्प गुच्छ देकर स्वागत किया गया। 

वार्षिकोत्सव कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डीपीसी शिरोमणी दुबे ने कहा कि बालिका छात्रावास में बालिकाओं को शिक्षा के साथ-साथ संस्कार भी मिलते हैं।  बालिकाओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों की सुन्दर प्रस्तुतियां दी। दुबे ने कहा कि बालिकाऐं अब किसी भी क्षेत्र में बालकों से पीछे नहीं है। विशिष्ठ अतिथि तहसीलदार प्रेमलता पाल ने कहा कि परिवार से दूर रहकर बेटियां छात्रावास में अपने परिवार जैसे माहौल प्राप्त कर शिक्षा व संस्कार बान बन रही हैं। विशिष्ठ अतिथि एसबीआई शाखा के प्रबंधक रमेश झा ने बैंक से संबंधित जानकारियां छात्राओं को उपलब्ध कराई और हर संभव मदद करने का आश्वासन दिया। 

इस मौके पर टीआई बदरवास सुनील शर्मा ने सभी छात्राओं को पुरस्कारों का वितरण किया। सांस्कृतिक कार्यक्रमों में प्रमुख रूप से सरस्वती वंदना, गणपति बप्पा मोरिया...., मेरा रंग दे बसंती चोला, मार्शल आर्ट कराते का प्रदर्शन भी बालिकाओं द्वारा किया गया एवं हरियाणी, महाराष्ट्रियन, आदिवासी नृत्य एवं राजस्थानी घूमन नृत्य की मनमोहक एक से बढ़कर एक प्रस्तुतियां दी। कु. शिल्पी शर्मा ने ये तो सच है कि भगवान है....भजन की शानदार प्रस्तुति दी। कार्यक्रम का संचालन प्रिया व्यास ने व आभार वार्डन बंदना शर्मा ने व्यक्त किया। इस मौके पर प्रमुख रूप से बूढ़ा डोंगर की सरपंच दिनेश बाई यादव, प्रिया व्यास, संध्या रघुवंशी, शिल्पी व्यास, पूजा चौबे, सरोज जाटव, सौनम व्यास, कमला पटेलिया, सुखबीर सहित काफी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित थे।  
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics