सावधान ! आप जो मिठाई खरीद रहे है कहीं वह जहरीली तो नहीं ?

सतेन्द्र उपाध्याय/शिवपुरी। इन दिनों त्योहार की भरमार है। जिसके चलते लोग बाजार में से मिठाईयों की खरीददारी में लगे हुए है। परंतु सावधान! आप जो मिठाई खरीद रहे है वह जहर तो नहीं? इस दिनों शहर में मिठाई के नाम पर यह व्यापारी लोगों की जान से खिलवाड़ करते हुए नकली और सिथेंटिक पनीर मिठाई लोगों को परौस रहे है। शहर में उक्त व्यापारी सिंथेटिक पनीर, डिटर्जेंट से दूध बनाने का गोरखधंधा अब जमकर चल रहा है। शिवपुरी शहर सहित जिले में इसकी शिकायतें भी सामने आ रही हैं। पूर्व में स्वयं खाद्य एवं औषधि विभाग के अधिकारियों ने मामले भी पकड़े हैं। त्योहार के ऐसे मौके पर शासन की उदासीनता के चलते मिलावटखोरों को मिलावट की खुली छूट भी मिल गई है।

विभाग की मिलावट खोरों के साथ कहीं न कहीं लिप्तता के कारण यह गौरख धंधा जोरों पर चल रहा है। पूर्र्व में कर्ई स्थानों पर सेम्पल लिए गए लेकिन आज तक उन मिलावट खोरों के खिलाफ कोर्ई कार्रवार्ई नहीं हुई और अब दीपावली त्यौैहार के चलते खाद्य सुरक्षा अधिकारियों ने सेम्पल लेना बंद कर दिया है। जांच की जो कार्रवाई हो भी रही है वह महज निरीक्षण या यूं कहें कि दिखावा मात्र है। शहर के लुधावली, फतेहपुर , कमलागंज, बाबू क्वार्र्टर, पुरानी शिवपुरी सहित मुख्य बाजार में स्थित कर्ई ऐसी दुकानें और गोदाम है जिन पर यह गोरख धंधा बड़े जोरों पर चल रहा है। 

डिटर्जेंट पाउडर से दूध बनाकर उसे शहर में खपाया जा रहा है जो लोगों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डाल रहा है जिससे लोग बीमार भी हो रहे हैं। उसी दूध से मिठाईयां भी बनार्ई जा रहीं है जिन्हें दीपावली पर बिक्रय किया जाएगा। अभी दीपावली में 10 दिन शेष हैं उससे पूर्व प्रशासन को शहर के मिठार्ई निर्र्माताओं के यहां छापामार कार्रवाई करनी चाहिए जिससे नकली मिठार्ईयां और दूध बनाने वालों का भंडा फोड़ हो सके। 

पूर्व में लुधावली क्षेत्र में एक गोदाम पर प्रशासन ने छापामार कार्र्रवार्ई कर बड़े स्तर पर नकली केक और मावा बनाने का सामान पकड़ा था। जहां से बड़ी संख्या में नकली केक भी बरामद हुई थी। लेकिन प्रशासनिक अधिकारियों ने सांठगांठ कर उक्त मामले को रफा दफा कर दिया। जिस कारण आज भी वहां बड़े स्तर पर नकली मावा और केक तैयार किया जा रहा है।  

इन मिलावट खोर नकली दूध के कारोबारीयों के तार मुरैना जिले से जुडे हुए हैै। जो जिले के पोहरी बैराड़ में अपना धंधा जमाए हुए है। जहां यह उक्त बारदात को अंजाम देते है। जहां से यह कच्चे माल को तैयार कर होटलों तक पहुंचाते है। उसके बाद इसी कच्चे माल की मिठाईयां तैयार की जाती है जो पब्लिक के बीच पहुंचती है। इस जहरीली मिठाईयों से कैंसर सहित कईं गंभीर बीमारीयों का हो सकती है। 
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

-----------

analytics