Friday, July 14, 2017

राष्ट्रपति चुनाव के चलते शकुंतला खटीक को सुप्रीम कोर्ट से मिली जमानत

करैरा। जिले के करैरा विधानसभा से कांग्रेस की विधायक शकुंतला खटीक को आज सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत मिली है। कोर्ट ने उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगा दी हैै। विधायक शकुंतला खटीक और ब्लॉक काग्रेंस अध्यक्ष वीनस गोयल पर पुलिस ने शासकीय कार्य में बाधा सहित मारपीट और थाने में आग लगा देने के लिए पब्लिक को भडक़ाने की धाराओं में मामला दर्ज कर लिया था। मामला दर्ज होते ही विधायक शकुंतला खटीक फरार हो गई थी। 

जिस पर उनकी गिरफ्तारी होना शेष थी। इस मामले को लेकर शकुंतला खटीक ने अपर एवं सत्र न्यायालय से लेकर हाईकोर्ट तक अग्रिम जमानत की अर्जी लगाई थी। पर उन्हें दोनों ही जगह से जमानत नहीं मिल पाई थी। करैरा विधायक शकुंतला खटीक की ओर से वरुण तन्खा ने सुप्रीम कोर्ट में अग्रिम जमानत की एक याचिका दायर की थी, जिसमें विवेक तन्खा ने पैरवी की। मामले में सुनवाई करते हुए उच्चतम न्यायालय ने उनकी गिरफ्तारी पर स्टे लगा दिया था।

अब राष्ट्रपति पद के लिए डाल सकेंगी वोट
सुप्रीम कोर्ट से राहत मिलने के बाद करैरा विधायक शकुंतला खटीक राष्ट्रपति के चुनाव में भाग ले सकेेंगी और अपने वोट का इस्तेमाल भी कर पाएंगी। बता दें कि भारत के 14वें राष्ट्रपति के चुनाव के लिए 17 जुलाई को मतदान होना है।

यह था मामला
मंदसौर में हुए गोलीकांड में मारे गए किसानों की मौत के विरोध में करैरा विधायक शकुंतला खटीक विरोध प्रदर्शन कर रहीं थी। खटीक प्र्रदर्शन के दौरान पुलिस द्वारा पानी की बौछार मारने से नाराज हो गईं और इस दौरान उन्होंने अपने समर्थकों से तीन बार कहा था कि आग लगा दो थाने में विधायक ने एसडीओपी अनुराग सुजानिया को चेतावनी दी कि अगर तीन दिन में करैरा टीआई को हटाया नहीं तो या तो वे अपनी जान दे देंगी नहीं तो टीआई की जान ले लेंगी। विधायक के इस बयान का वीडियो आने के बाद हडक़ंप मच गया। जैसे ही किसान आंदोलन थमा, पुलिस ने सोमवार रात करीब साढ़े 9 बजे विधायक सहित अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया था। उसके बाद से यह लगातार फरार चल रही थी। 

अब प्रशासन पर भारी पड़ सकती है विधायक
इस मामले में अपने उग्र तेवर के चलते जमकर मीडिया में सुर्खियां बटोरने बाली विधायक अब करैरा प्रशासन पर भारी पड़ सकती है। प्रशासन द्वारा शकुंतला खटीक पर मामला दर्ज करने के बाद अब जमानत मिलने पर शकुंतला खटीक प्रशासन की पूरी पोल खोलने की जुगत में रहेगी। 

No comments:

Post a Comment

प्रतिक्रियाएं मूल्यवान होतीं हैं क्योंकि वो समाज का असली चेहरा सामने लातीं हैं। अब एक तरफा मीडियागिरी का माहौल खत्म हुआ। संपादक जो चाहे वो जबरन पाठकों को नहीं पढ़ा सकते। शिवपुरी समाचार आपका अपना मंच है, यहां अभिव्यक्ति की आजादी का पूरा अवसर उपलब्ध है। केवल मूक पाठक मत बनिए, सक्रिय साथी बनिए, ताकि अपन सब मिलकर बना पाएं एक अच्छी और सच्ची शिवपुरी। आपकी एक प्रतिक्रिया मुद्दों को नया मोड़ दे सकती है। इसलिए प्रतिक्रिया जरूर दर्ज करें।