Thursday, June 01, 2017

आधिपत्य में नहीं लिए गए शाला भवनों की जांच हेतु दल गठित

शिवपुरी। कलेक्टर ओमप्रकाश श्रीवास्तव ने स्कूल विभाग के लिए जिले में बनाए गए स्कूल भवनों की विस्तृत जानकारी एकत्रित करने हेतु दो सदस्यीय जांच समिति गठित की गई है। जिसमें अनुविभगाीय अधिकारी पोहरी श्री अंकित अष्ठाना और आदिम जाति कल्याण विभाग की जिला संयोजक श्री सिवाली चतुर्वेदी को रखा गया है। 

गठित जांच दल संपूर्ण जिले में ऐसे स्कूल भवनों की जानकारी एकत्रित करेगा। जो निर्माण एजेंसियों द्वारा पूर्ण कर दिए गए है। लेकिन शिक्षा विभाग द्वारा इन भवनों में छोटी-छोटी त्रुटियां बताकर विद्यालय नहीं चलाए जा रहे है। जांच दल इन भवनों के फोटोग्राफ तथा वर्तमान स्थिति के संबंध में जानकारी संबंधित अनुविभागीय अधिकारी राजस्व के माध्यम से प्राप्त करेगी।  

उल्लेखनीय है कि जिले में विभिन्न योजनाओं के तहत प्राथमिक, माध्यमिक तथा उच्चतर माध्यमिक शालाओं के भवन स्वीकृत किए गए थे। इन भवनों का निर्माण कार्य ग्रामीण यांत्रिकी सेवा, लोक निर्माण और पीआईयू द्वारा किया गया। 

कलेक्टर द्वारा सितम्बर 2016 से निरंतर भवनों की समीक्षा की जाती रही और शिक्षा विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए गए कि छोटी-मोटी कमियों के बावजूद भी जो भवन पूर्ण हो गए है। उन शाला भवनों को शिक्षा विभाग अपने आधिपत्य में लें। 

आधिपत्य में न लेने से ठेकेदार द्वारा भी शाला भवनों की देखरेख न करने एवं नए भवन जीर्णशीर्ण होने लगगें और इन भवनों का दूरूपयोग होगा। इसी को ध्यान में रखते हुए कलेक्टर ने इन भवनों की जानकारी एकत्रित करने जांच दल गठित किया है।